तीन बार की चैंपियन चेन्नई सुपरकिंग्स (Chennai Super Kings) के लिए आईपीएल 2020 (IPL 2020) अब तक बेहद खराब रहा है.  पिछले सभी सीजन में प्वाइंट्स टेबल में टॉप-4 में रहने वाली महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) की कप्तानी वाली चेन्नई अभी सबसे निचले क्रम यानी 8वें नंबर पर है.  चेन्नई ने आईपीएल के इतिहास में अब तक सभी प्लेऑफ खेले हैं लेकिन इस बार टीम जूझती हुई नजर आ रही है.

इस बार टीम ने कई फैसले ऐसे लिए जिसपर सवाल उठ रहे हैं.  आइए जानते हैं धोनी के आईपीएल 2020 में लिए गए उन 5 फैसलों के बारे में जिसे लेकर कंफ्यूजन है :-

शुरुआती मैचों में धोनी का निचले क्रम पर बल्लेबाजी के लिए आना

मौजूदा सीजन में धोनी सीएसके के लिए कुछ मैचों में सातवें नंबर पर बल्लेबाजी के लिए आए.  हालांकि सीएसके मौजूदा चैंपियन मुंबई इंडियंस (Mumbai Indians) के खिलाफ अपना पहला मैच जीतने में सफल रही.  धोनी की टीम ने बेहतरीन तरीके से मैच चेज करते हुए अपने नाम की.  इसके बाद भी उसने मैच जीते लेकिन उसके बाद टीम जीत की पटरी से उतर गई.

दुनिया के श्रेष्ठ फिनिशरों में शुमार धोनी इस आईपीएल में अपने बल्ले से फैंस को खुश करने में अब तक असफल रहे हैं.  धोनी के क्रीज पर रहते हुए टीम का हारना फैंस के लिए इसे पचा पाना बेहद मुश्किल है.  वर्तमान में अब ये भी तय नहीं है कि सीएसके प्लेऑफ में पहुंचेगी या नहीं.  हालांकि धोनी का बल्ला अगर बचे हुए मुकाबलों में रन उगलने में सफल रहता है तो टीम के लिए मौके बन सकते हैं.

केदार जाधव को लगातार मौके देना

बल्लेबाज केदार जाधव (Kedar Jadhav) के लिए ये आईपीएल अब तक बेहद खराब रहा है.  केदार को फील्ड पर देखते ही फैंस उन्हें ट्रोल करना शुरू कर देते हैं.  मौजूदा सीजन में केदार ने अब तक 5 मैच खेले हैं जिसमें उन्होंने 20.67 की औसत से रन बनाए हैं.  इस दौरान उनका स्ट्राइक रेट 93.94 रहा है.

पिछले मैच में केकेआर (KKR) के खिलाफ उन्होंने 7 गेंदों पर नाबाद 12 रन बनाए.  वह रवींद्र जडेजा (Ravindra Jadeja) के साथ स्ट्राइक रोटेट करने में असफल रहे.  वह मिडिल ऑर्डर में साधारण बल्लेबाजी करते रहे जिससे टीम को हार का सामना करना पड़ा.

इससे धोनी के उपर सवाल उठने लगे कि वह क्यों इस खिलाड़ी को बार बार मौका दे रहे हैं.  दिग्गजों का कहना है कि केदार की जगह धोनी को किसी युवा को मौका देना चाहिए.  हालांकि फैंस भी यही कर रहे हैं कि धोनी को बचे हुए मुकाबलों में किसी युवा खिलाड़ी को मौका देना चाहिए.

रैना और हरभजन के स्थान पर क्यों नहीं दूसरे खिलाड़ी को शामिल किया

टीम के स्टार बल्लेबाज सुरेश रैना (Suresh Raina) और अनुभवी ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह (Harbhajan Singh) ने व्यक्तिगत कारणों का हवाला देकर आईपीएल 2020 से अपना नाम वापस ले लिया था.  रैना नंबर तीन पर उतरकर टीम को मजबूती देने का काम करते रहे हैं.  उन्हें मिस्टर आईपीएल यूं ही नहीं कहा जाता है.  टीम ने उनके स्थान पर किसी अन्य खिलाड़ी को स्वॉड में शामिल नहीं किया.

दूसरी ओर हरभजन सिंह की रिप्लेसमेंट भी टीम ने नहीं की.  ऐसे में धोनी और टीम मैनेजमेंट पर सवाल उठना लाजिमी है.