Live Updates

  • 8:51 PM IST

    इस बीच BCCI ने पूर्व क्रिकेटरों को बड़ा तोहफा दिया है। बीसीसीआई सचिव जय शाह ने पूर्व क्रिकेटरों की मासिक पेशन में बढ़ोतरी का बड़ा ऐलान किया है।

  • 3:27 PM IST
    अगले 5 साल के लिए IPL मीडिया राइट्स (टीवी और डिजिटल) 44075 करोड़ में बिके हैं। टीवी और डिजिटल के अधिकार दो अलग-अलग ब्रॉडकास्टर्स को मिले हैं।
  • 3:20 PM IST

    IPL के टीवी राइट्स 23575 करोड़ में बिके हैं। वहीं, 20500 करोड़ रुपये डिजिटल राइट्स की आखिरी बोली रही।

  • 5:40 PM IST

    ब्रेक के बाद नीलामी एक बार फिर से शुरू हो चुकी है। पैकेज ए और बी के लिए बोली 40 हजार करोड़ को पार कर गई है।

  • 1:37 PM IST

    पहले दिन की नीलामी शाम छह बजे तक चलेगी। इस बीच दोपहर 1.30 पर ब्रेक लिया जाएगा।

  • 1:11 PM IST
    A- टेलीविजन प्रसारण अधिकार केवल भारतीय उपमहाद्वीप के लिए

    B- डिजिटल प्रसारण अधिकार

    C- 18 मैचों के पैकेज (सीजन का पहला मैच, चार प्लेऑफ और वीकैंड पर होने वाले डबल हेडर मुकाबलों के दौरान शाम के मैच के लिए)

    D- बाकी दुनिया में प्रसारण के लिए
  • 1:10 PM IST
    मीडिया अधिकार चार अलग-अलग हिस्सों में बेचे जाएंगे. बोर्ड ने साफ कर दिया है कि चारों अलग ब्रैकेट के लिए एक साथ नीलामी को स्वीकार नहीं किया जाएगा. सभी को अलग-अलग के लिए बोली लगानी होगी.
  • 1:09 PM IST

    IPL Media Rights E-Auction Live: बीसीसीआई के कोषाध्यक्ष अरुण धूमल का मानना है कि आईपीएल मीडिया अधिकार के लिए इस बार पिछली बार से बहुत अधिक दाम मिलेंगे। धूमल ने कहा, ‘IPL क्रिकेट की दुनिया में सबसे बड़ी लगी है और यह अभी 10 टीम तक पहुंच गई है, इसका अर्थ है कि और अधिक मुकाबले होंगे। इस सबका असर मीडिया अधिकारों की कीमत पर भी दिखेगा। हमें उम्मीद है कि यह पिछली बार से बहुत अधिक कीमत पर जाएंगे।’

  • 1:01 PM IST

    बीसीसीआई ने 32 हजार करोड़ से ज्यादा का बेस प्राइस रखा है।

ipl media rights e-auction live update from mumbai all you need to know

IPL Media Rights Auction Live: इंडियन प्रीमियर लीग के 2023-2027 चरण के लिए प्रसारण अधिकार के लिए नीलामी की प्रक्रिया रविवार 12 जून को शुरू हो गई है. इस बार भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने नीलामी के लिए 32 हजार करोड़ से ज्यादा का बेस प्राइस रखा है।

ई-ऑक्शन में कंपनियां ऑनलाइन पोर्टल के जरिए नीलामी में शामिल होती हैं. इसमें संभावित दावेदार कंपनियां लगातार बोलियां तब तक डालती रहती हैं जब तक सामने वाली कंपनियां नीलामी से हट न जाएं. सबसे ज्यादा बोली लगाने वाले को प्रसारण अधिकार मिल जाते हैं.

बोर्ड को इस बार पूरा यकीन है कि पिछली बार से बहुत ज्यादा रकम उसे मिल जाएगी।