मिशेल स्टार्क 2015 के बाद से पहले ओवर में सबसे ज्यादा विकेट चटकाने वाले गेंदबाज हैं © Getty Images (FIle Photo)
मिशेल स्टार्क 2015 के बाद से पहले ओवर में सबसे ज्यादा विकेट चटकाने वाले गेंदबाज हैं © Getty Images (FIle Photo)

एक तेज गेंदबाज से टीम को सबसे पहली उम्मीद होती है कि वह टीम को शुरूआत में ही सफलता दिलाए और मौजूदा समय में इस मामले में ऑस्ट्रेलिया के तेज गेंदबाज मिशेल स्टार्क से बेहतर कोई और गेंदबाज नहीं है। स्टार्क को सबसे बेहतरीन तेज गेंदबाजों में गिना जाता है। भारत के खिलाफ 2010 में अपने इंटरनेशनल करियर की शुरूआत करने वाले इस तेज गेंदबाज ने बहुत ही कम समय में खुद को महान गेंदबाजों की सूची में शामिल कर लिया। हाल ही उन्होंने सबसे कम मैचों में वनडे क्रिकेट में 100 विकेट लेने का 19 साल पुराना रिकॉर्ड तोड़ा। अगर चोटों की वजह से उनको बार-बार टीम से बाहर नहीं होना पड़ता तो शायद वह और भी कई रिकॉर्ड अपने नाम कर चुके होते। फिलहाल ऑस्ट्रेलिया के लिए अच्छी खबर यह है कि वह एक बार फिर से फिट होकर टीम में वापसी कर चुके हैं।

साउथ अफ्रीका के खिलाफ पहले टेस्ट में स्टार्क ने अपने पहले ही ओवर की चौथी गेंद पर सलामी बल्लेबाज स्टीफन कुक को आउट किया। 2015 के बाद से स्टार्क सबसे ज्यादा बार अपने पहले ही ओवर में विरोधी टीम के बल्लेबाजों को पवेलियन भेजने का कारनामा अंजाम दे चुके हैं। अगर आंकड़ों पर गौर करें तो स्टार्क ने पिछली 53 पारियों में 19 विकेट पहले ही ओवर में हासिल किए और टीम को पहले ही ओवर में सफलता दिलाई है। अन्य कोई गेंदबाज इस रेस में उनके आस पास भी नहीं फटकता।

स्टार्क के बाद पहले ओवर में सबसे ज्यादा बार विरोधी टीम के बल्लेबाजों को आउट करने का कारनामा श्रीलंका यार्कर किंग लसिथ मलिंगा ने अंजाम दिया है। मलिंगा ने 14 पारियों में 7 बार पहले ओवर में विरोधी टीमों को झटका दिया है। इसके बाद अगला नंबर अफगानिस्तान के गेंदबाज दावलत जादरान और इंग्लैंड के तेज गेंदबाज डेविड विली हैं। इन दोनों ने भी क्रमशः 20 पारियों और 25 पारियों में 7-7 बार पहले ओवर में विराधो बल्लेबाजों को पवेलियन भेजा है। इसके अलावा धमिका प्रसाद ने 15 पारियों में 6 बार विरोधी बल्लेबाजों को पवेलियन का रास्ता दिखाया है। [Also Read: जब डॉन ब्रैडमैन ने सिर्फ 3 ओवरों में जड़ दिया था शतक]

अगर स्टार्क के पहले ओवर में लिये गए 19 विकेटों को तीनों प्रारूपों में बांट कर देखें तो उन्होंने 27 वनडे मैचों में 11 बार, 23 टेस्ट मैचों में 7 बार और 3 टी20 मैचों में 1 बार पहले यह कारनामा अंजाम दिया है। पिछले लगातार 3 टेस्ट मैचों में स्टार्क ने टीम को पहले ओवर में सफलता दिलाई है। जो अपने आप में काबिले तारीफ है। स्टार्क पहले ओवर में दाएं हाथ के बल्लेबाजों के लिए ज्यादा सिर दर्द साबित हुए हैं। उन्होंने इन 19 विकेटों में 13 बार दाएं हाथ के बल्लेबाजों को अपना शिकार बनाया है। [Also Read: इन देशों के बल्लेबाजों ने लगाए हैं वनडे क्रिकेट में सबसे ज्यादा शतक]

अगर आउट करने के तरीकों की बात करें तो इन 19 विकेटों में उन्होंने 8 बल्लेबाजों को कैच आउट, 6 बल्लेबाजों को बोल्ड और 5 बल्लेबाजों को विकेट के सामने पकड़ा है। स्टार्क अपने पहले ओवर की चौथी गेंद पर सबसे ज्यादा खतरनाक होते हैं, उन्होंने पहले ओवर में सबसे ज्यादा शिकार अपनी चौथी गेंद पर ही किए हैं। उन्होंने कुल 6 बार पहले ओवर की चौथी गेंद पर सलामी बल्लेबाजों को पवेलियन का रास्ता दिखाया है। 5 बार पांचवी गेंद पर 3 बार तीसरी गेंद पर और पहली और छठीं गेंद पर 2-2 बार और दूसरी गेंद पर 1 विकेट चटकाए हैं।

2015 के बाद स्टार्क ने ज्यादा समय चोटों की वजह से क्रिकेट मैदान के बाहर ही बिताया है। अगर वह इस दौरान ऑस्ट्रेलिया के लिए लगातार खेलते तो यह आंकड़ा और भी बेहतर होता क्योंकि इस समय वह जिस तरह की गेंदबाजी कर रहे हैं उससे सबसे बेहतरीन बल्लेबाज भी उनकी गेंदों के सामने असहज नजर आते हैं। फिलहाल स्टार्क का टीम में आना अच्छी खबर हैं क्योंकि कंगारू टीम को पहली सफलता के लिए अब ज्यादा देर इंतजार नहीं करना पड़ेगा। लेकिन उनकी सबसे बड़ी चिंता स्टार्क की फिटनेस है क्योंकि स्टार्क बहुत जल्दी चोटिल हो जाते हैं।