mukesh kumar got emotional remembering his father after got selected in indian team for sa odi series
mukesh kumar (Twitter)

नई दिल्ली: मुकेश कुमार को राष्ट्रीय टीम में चयन के बारे में तब तक पता नहीं चला था जब तक उन्हें भारतीय टीम के आधिकारिक वाट्सएप ग्रुप में शामिल नहीं किया गया.

मुकेश ने राजकोट से पीटीआई से कहा, ‘मैं बहुत भावुक हो गया. सब धुंधला सा लग रहा था. मुझे सिर्फ अपने दिवंगत पिता काशी नाथ सिंह का चेहरा याद आ रहा था. जब तक मैं बंगाल के लिए रणजी ट्राफी में नहीं खेला, तब तक मेरे पिता को नहीं लगा कि मैं पेशेवर तौर पर खेलने के लिए अच्छा हूं. उनको शक था कि मैं काबिल हूं भी या नहीं.’

रणजी फाइनल्स से पहले ही उनके पिता का ‘ब्रेन स्ट्रोक’ से निधन हो गया. मुकेश सुबह ट्रेनिंग करते और अस्पताल में अपने पिता के बिस्तर के पास समय बिताते.

बिहार के गोपालगंज जिले के मुकेश ने कहा, ‘आज मेरी मां की आंखों में आंसू थे. वह भी बहुत भावुक हो गई थीं. घर पर हर किसी ने रोना शुरू कर दिया.’

इसे भी पढ़ें: रोहित को मालूम है टीम की सबसे बड़ी खामी, बोले इस पर ध्यान देना बहुत जरूरी

वह तीन बार सीआरपीएफ (केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल) की परीक्षा में बैठ चुके हैं क्योंकि उनके पिता चाहते थे कि वह सरकारी नौकरी करें.

सीआरपीएफ तो नहीं लेकिन मुकेश प्रथम श्रेणी क्रिकेटर के तौर पर सीएजी (नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक कार्यालय) के साथ कार्यरत हैं.

वह नयी गेंद से बंगाल के सबसे निरंतर गेंदबाज हैं लेकिन न्यूजीलैंड ए के खिलाफ पहले टेस्ट में पांच विकेट और ईरानी कप के पहले दिन चार विकेट ने उनकी भारतीय टीम में जगह बनाने में अहम भूमिका निभाई.

VIDEO: गुवाहाटी में SA पर गिरी सूर्या के बल्ले की बिजली, ऐसा करने वाले बने पहले बल्लेबाज

गेंद दोनों तरीकों से स्विंग कराने की उनकी काबिलियत पर इस 28 साल के खिलाड़ी ने कहा, ‘आपके हाथों की कलाकारी भगवान की देन है, लेकिन उनका दिया हुए आशीर्वाद मेहनत नहीं करोगे तो कुछ नहीं होगा.’ भारतीय टीम के ड्रेसिंग रूम में जाना उनके लिये ज्यादा से ज्यादा सीखने का मौका होगा.

इसे भी पढ़ें- विराट की ‘दरियादिली’, कार्तिक की ताबड़तोड़ बैटिंग के लिए दी यह ‘कुर्बानी’

उन्होंने कहा, ‘जीवन का मतलब ही सीखते रहना है, जो कभी खत्म नहीं होता. मेरी कोशिश यह सुनिश्चित करने की होगी कि मैं जब तक क्रिकेट खेलूंगा तब तक सीखना जारी रहेगा.’

साउथ अफ्रीका के खिलाफ वनडे सीरीज के लिए भारतीय टीम

शिखर धवन (कप्तान), श्रेयस अय्यर (उपकप्तान), रुतुराज गायकवाड़, शुभमन गिल, रजत पाटीदार, राहुल त्रिपाठी, ईशान किशन (विकेटकीपर), संजू सैमसन (विकेटकीपर), शाहबाज अहमद, शार्दुल ठाकुर, कुलदीप यादव, रवि बिश्नोई, मुकेश कुमार आवेश खान, मोहम्मद सिराज और दीपक चाहर