© Getty Images
© Getty Images

4 अक्टूबर 1996…ये वो तारीख है जब पाकिस्तान का एक युवा बल्लेबाज मैदान पर उतरा और उसने छक्के-चौकों की ऐसी बारिश कर दी कि हर कोई भौंचक्का रह गया। हम बात कर रहे हैं शाहिद अफरीदी की जिन्होंने एक बल्लेबाज के तौर पर अपनी पहली ही वनडे पारी में सिर्फ 37 गेंदों में शतक ठोककर इतिहास रच दिया था। नैरोबी में श्रीलंका के खिलाफ अफरीदी की इस पारी ने वनडे क्रिकेट के लिए सभी का नजरिया ही बदल दिया और इस पारी के दम पर शाहिद अफरीदी ने वर्ल्ड क्रिकेट में ये ऐलान कर दिया कि वो स्टार नहीं बल्कि सुपरस्टार हैं।

शाहिद अफरीदी का शतक

श्रीलंका के खिलाफ इस मुकाबले में पाकिस्तानी टीम पहले बल्लेबाजी के लिए उतरी। ओपनर सईद अनवर और सलीम इलाही ने पाकिस्तान को अच्छी शुरुआत दी। दोनों के बीच 60 रनों की साझेदारी हुई लेकिन इस बीच कुमार धर्मसेना ने इलाही को 23 रन के निजी स्कोर पर पैवेलियन भेज दिया। पहला विकेट गिरने के बाद शाहिद अफरीदी ने मैदान पर कदम रखा और उसके बाद जो हुआ उसका खुद इतिहास गवाह है।

अफरीदी ने क्रीज पर उतरते ही छक्कों की बारिश शुरू कर दी। उन्होंने हर गेंद को निशाना बनाया और 50 मिनट से भी कम समय में अपना शतक पूरा कर लिया। अफरीदी ने सिर्फ 37 गेंद में शतक पूरा किया जो उस वक्त वनडे का सबसे तेज शतक था। अफरीदी ने शतकीय पारी में कुल 11 छक्के और 4 चौके लगाए, उनका स्ट्राइक रेट 255 रहा। अफरीदी ने इस पारी में कुल 40 गेंद खेली और वो 102 रन बनाकर ही आउट हुए। अफरीदी की इस धुआंधार पारी की बदौलत पाकिस्तानी टीम ने 50 ओवर में 371 रन का विशाल स्कोर खड़ा किया और उसे श्रीलंका पर 82 रन से जीत मिली। [ये भी पढ़ें: जीनियस और एंटरटेनर है एमएस धोनी की बेटी, इस बॉलीवुड एक्टर ने की तारीफ]

2014 में टूटा अफरीदी का वर्ल्ड रिकॉर्ड

वनडे क्रिकेट में सबसे तेज शतक बनाने वाले शाहिद अफरीदी का रिकॉर्ड 18 साल बाद टूटा। शाहिद अफरीदी के रिकॉर्ड को न्यूजीलैंड के ऑलराउंडर कोरे एंडरसन ने तोड़ा जिन्होंने वेस्टइंडीज के खिलाफ 2014 में सिर्फ 36 गेंद में सेंचुरी ठोक दी। हालांकि कोरे एंडरसन के इस रिकॉर्ड को द.अफ्रीकी बल्लेबाज ए बी डीविलियर्स ने एक साल के अंदर तोड़ दिया। उन्होंने भी वेस्टइंडीज के खिलाफ सिर्फ 31 गेंद में वनडे शतक ठोक दिया।