सचिन तेंदुलकर © AFP
सचिन तेंदुलकर © AFP

क्रिकेट के भगवान सचिन तेंदुलकर ने वैसे तो अपने करियर में कई मुकाम हासिल किए। लेकिन 16 मार्च 2012 को जो कारनामा उन्होंने मुकम्मल किया वह क्रिकेट जगत में बना सबसे बड़ा रिकॉर्ड था। जी हां, सचिन ने आज के ही दिन अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में अपने 100 शतक पूरे किए थे। सचिन ने अपना 100वां शतक बांग्लादेश के खिलाफ एशिया कप में बनाया था। सचिन का वनडे में ये 49वां शतक था। इसके अलावा टेस्ट में उन्होंने 51 शतक लगाए। लेकिन दुर्भाग्य की बात ये रही कि टीम इंडिया को इस मैच में बांग्लादेश से 5 विकेट से हार का सामना करना पड़ा था और एशिया कप के अभियान में भारतीय टीम को तगड़ा झटका लगा था। लेकिन इस बीच ये जान लेते हैं कि सचिन ने कैसे अपना 100वां शतक मुकम्मल किया।

सचिन का 100वां शतक, फ्लैशबैक: मैच में बांग्लादेश टीम के कप्तान मुशिफिकुर रहीम ने टॉस जीता और टीम इंडिया को पहले बल्लेबाजी के लिए न्योता दिया। पहले बल्लेबाजी करने उतरी टीम इंडिया की शुरुआत खराब रही और ओपनर गौतम गंभीर 11 रन बनाकर शफीउल इस्लाम की गेंद पर बोल्ड हो गए। इसके बाद विराट कोहली सचिन तेंदुलकर का साथ निभाने आए। कोहली के आने के बाद सचिन ने अपना गियर बदला और मैदान के चारों ओर स्ट्रोक लगाए। उन्होंने इस दौरान सबसे ज्यादा 29 रन एक्सट्रा कवर क्षेत्र में बनाए। सचिन ने कोहली के साथ दूसरे विकेट के लिए शतकीय साझेदारी निभाई और टीम इंडिया को बड़े स्कोर की ओर अग्रसर किया। लेकिन अर्धशतक बनाने के बाद कोहली 66 रन बनाकर अब्दुर रज्जाक की गेंद पर बोल्ड हो गए और 134 रनों के योग पर टीम इंडिया का दूसरा विकेट गिर गया।

अब सचिन का साथ निभाने के लिए सुरेश रैना आए। रैना पहली ही गेंद से हिटिंग के मूड में दिखे और आनन- फानन में उन्होंने रन बनाने शुरू किए। हालांकि, शतक के पहले सचिन थोड़ा धीमे नजर आए और अंततः 138 गेंदों का सामना करते हुए उन्होंने अपना सौंवा शतक बना डाला। शतक बनाने के बाद सचिन ने अपने रंग में नजर आए और अगले ओवर में दो चौके जमा डाले। वहीं, दूसरे छोर से रैना भी चौके- छक्कों की बरसात कर रहे थे। लेकिन मुर्तजा ने अपनी दो लगातार गेंदों पर रैना 51(38) और सचिन तेंदुलकर 114(147) को आउट कर दिया। यहीं से टीम इंडिया पर दबाव बन गया और जहां स्कोर 300 के पार जाना चाहिए थे वह 50 ओवर में 5 विकेट पर 289 रन ही बन सका। [भारत बनाम ऑस्ट्रेलिया, तीसरा क्रिकेट टेस्ट मैच, लाइव स्कोरकार्ड जानने के लिए क्लिक करें…]

जवाब में बल्लेबाजी करने उतरी बांग्लादेश टीम ने मैच को अपने बल्लेबाजों की बेहतरीन बल्लेबाजी के दम पर 49.2 ओवरों में 5 विकेट से जीत लिया। बांग्लादेश की ओर से तमीम इकबाल ने 70, जाहुरुल इस्लाम ने 53, और नासिर हुसैन ने 54 रनों की पारी खेली। इस तरह सचिन तेंदुलकर के 100वें शतक की खुशी को बांग्लादेश की जीत ने थोड़ा धक्का तो जरूर पहुंचाया। लेकिन पूरा क्रिकेट जगत सचिन की इस उपलब्धि को सराह रहा था। सचिन का अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में ये अंतिम शतक था। सचिन ने अपना अंतिम अंतरराष्ट्रीय मैच 2013 में खेला था। लेकिन वह इस एक साल में कोई अन्य शतक नहीं जमा पाए। बहरहाल, क्रिकेट के भगवान का यह शतक हमेशा याद रखा जाएगा।