live cricket score, live score, live score cricket, india vs england live, india vs england live score, ind vs england live cricket score, india vs england 3rd test match live, india vs england 3rd test live, cricket live score, cricket score, cricket, live cricket streaming, live cricket video, live cricket, cricket live mohali
पार्थिव पटेल ने 54 गेंदों में 67* रन जड़े

टीम इंडिया अब उस दौर की ओर अग्रसर हो चली है जहां वह अपने आपको लगातार दुनिया की सर्वश्रेष्ठ टीम साबित कर रही है। इंग्लैंड के खिलाफ तीसरे क्रिकेट टेस्ट मैच में जहां टीम इंडिया ने जीत दर्ज करते हुए सीरीज में 2-0 से बढ़त बना ली। वहीं उस सिरदर्दी का हल भी ढूंढ लिया जो टीम के लिए पिछले कुछ समय से परेशानी का सबब बन रही थी। हम बात कर रहे हैं भारतीय ओपनिंग जोड़ी की। वेस्टइंडीज दौरे तक टीम इंडिया की ओर से ओपनिंग करने के लिए मुरली विजय और शिखर धवन आते थे। लेकिन धवन के खराब फॉर्म ने टीम इंडिया की चिंताएं बढ़ा दीं। खामियाजन, जब न्यूजीलैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज शुरू हुई तो टीम प्रबंधन ने शिखर धवन को अंतिम एकादश से बाहर निकाल दिया और उनकी जगह केएल राहुल से ओपनिंग करवाई।  [ये भी पढ़ें: भारत बनाम इंग्लैंड मोहाली टेस्ट का फुल स्कोरकार्ड]

राहुल एक प्रतिभाशाली खिलाड़ी हैं और उनमें बतौर ओपनर अपने आपको साबित करने की क्षमता भी है। लेकिन इसी टेस्ट में वह चोटिल हो गए। जिसके बाद उन्हें कुछ हफ्तों के लिए क्रिकेट से दूर होना पड़ा। इसी बीच टीम इंडिया ने फिर से बतौर ओपनर धवन को मौका दिया। लेकिन धवन ने फिर से निराश किया और वह चोटिल भी हो गए। इस तरह टीम इंडिया की ओपनिंग की समस्या और भी गहरा गई। ऐसे में अब आस घरेलू क्रिकेट में बढ़िया प्रदर्शन करने वाले गौतम गंभीर पर आ रुकी। गंभीर ने इंदौर में खेले गए तीसरे टेस्ट मैच की पहली पारी में जहां 29 रन बनाए तो दूसरी पारी में 50 रन बनाए।

इस तरह उनका प्रदर्शन मिलाजुला रहा। उम्मीद की जा रही थी कि गंभीर इंग्लैंड के खिलाफ सीरीज में जरूर कुछ कमाल दिखाएंगे। लेकिन पहले टेस्ट में वह बुरी तरह से नाकाम रहे। चूंकि, दूसरी ओर से राहुल ने घरेलू क्रिकेट में अच्छा प्रदर्शन करके अपनी वापसी की आस बंधाई तो गंभीर की छुट्टी कर दी गई। इस तरह विशाखापत्तनम में खेले गए दूसरे टेस्ट मैच में राहुल को टीम में शामिल किया गया। गंभीर की ही तरह राहुल ने भी निराश किया और दोनों पारियों में सस्ते में आउट हो गए। इससे भी बड़ी बात ये हो गई कि राहुल चोटिल हो गए। वहीं टीम के दूसरे खिलाड़ी विकेटकीपर बल्लेबाज रिद्धिमान साहा भी चोटिल हो गए। ऐसे में टीम इंडिया दोहरे भंवर में फंसते नजर आई।

एक ओर तो चुनौती थी कि एक विशेषज्ञ ओपनर की कमी पूरी की जाए तो दूसरी ओर विशेषज्ञ विकेटकीपर ढूंढना था। ऐसे में एक कॉम्बो की जरूरत थी। चयनकर्ताओं को इस परिस्थिति में आठ साल पहले टीम इंडिया के सदस्य रहे विकेटकीपर बल्लेबाज पार्थिव पटेल की याद आई। पटेल जो पिछले कुछ समय से रणजी में शतक और दो-तीन अर्धशतक जमाकर अपनी फॉर्म का सुबूक पेश कर चुके थे। वहीं वह विकेटकीपिंग में भी जौहर दिखा रहे। टीम इंडिया ने फौरन उनसे संपर्क किया और टीम से जुड़ने को कहा।

फिर क्या था पटेल को मोहाली में खेले गए टेस्ट मैच में टीम में शामिल किया गया। पार्थिव ने इंग्लैंड की पहली पारी में 2 कैच और 1 स्टंपिंग मुकम्मल की और अपनी मुस्तैदी का सुबूत पेश कर दिया। लेकिन ये तो अभी ट्रेलर था। जब पार्थिव विजय के साथ ओपनिंग बल्लेबाजी को उतरे तो उन्होंने अपनी बल्लेबाजी से सबको चकित कर दिया। उन्होंने पहली पारी में 42 रन बनाए और 6 चौके जड़े। पार्थिव ने इस दौरान चार चौके लॉन्ग ऑन और स्ट्रेट बाउंड्री पर लगाए वहीं एक कवर्स में और एक थर्डमेन बाउंड्री पर जड़ा। इससे आप अंदाजा लगा सकते हैं कि वह कितने आत्मविश्वास के साथ बल्लेबाजी कर रहे थे। वहीं जब वह दूसरी पारी में बल्लेबाजी करने उतरे तो और भी खतरनाक हो गए। उन्होंने आनन- फानन में 38 गेंदों में अर्धशतक जमा दिया। वह अंत तक 67 रन बनाकर नाबाद रहे और टीम इंडिया की जीत की आधारशिला रखी।

जैसा कि पार्थिव पटेल टीम में दोहरी भूमिका निभा रहे हैं। उसे देखते हुए रिद्धिमान साहा जो चोटिल हैं उका भविष्य में टीम में लौटना मुश्किल नजर आता है। जैसा कि बीसीसीआई की नई गाइडलाइनों के मुताबिक टीम में वापसी करने के लिए खिलाड़ी को घरेलू क्रिकेट में अच्छा प्रदर्शन करना होगा। लेकिन अगर वह घरेलू क्रिकेट में अच्छा प्रदर्शन करते भी हैं तो उन्हें पार्थिव को रीप्लेस करना मुश्किल ही होगा। पार्थिव सिर्फ साहा के लिए ही नहीं बल्कि राहुल की वापसी में भी मुश्किल खड़ी सकते हैं। क्योंकि, अगर वह बतौर ओनर अपने आपको स्थापित कर लेते हैं तो किसकी जगह पर राहुल टीम में वापसी करेंगे।