कुछ खिलाड़ी ऐसे हैं जिन्होंने विकेट ज्यादा लिए और रन कम बनाए © AFP
कुछ खिलाड़ी ऐसे हैं जिन्होंने विकेट ज्यादा लिए और रन कम बनाए © AFP

क्रिकेट को बल्लेबाजों का खेल कहा जाता है, अकसर यहां छक्के और चौकों की बारिश होती है। आजकल हर टीम में नंबर 11 का खिलाड़ी भी थोड़ी बहुत बल्लेबाजी कर लेता है और जरूरत पड़ने पर अपनी टीम के स्कोर में अहम योगदान देता है लेकिन क्रिकेट इतिहास में कुछ ऐसे गेंदबाज भी रहे हैं जिन्होंने बल्ले से बेहद ही निराशाजनक प्रदर्शन किया। उन्होंने अपने क्रिकेट करियर में विकेट ज्यादा लिए और रन कम बनाए, आइए डालते हैं उन ‘फिसड्डी बल्लेबाजों’ पर एक नजर।

वनडे के फिसड्डी बल्लेबाज

वनडे के सबसे फिसड्डी बल्लेबाजों की बात करें तो इसमें आशीष नेहरा का नाम सबसे ऊपर आता है। नेहरा ने 1 नवंबर को ही न्यूजीलैंड के खिलाफ टी20 मैच खेलकर क्रिकेट को अलविदा कहा। लेकिन क्या आप जानते हैं कि नेहरा अपने करियर में बेहद ही कम रन बना पाए। नेहरा ने टीम इंडिया के लिए 120 वनडे मैच खेले और उन्होंने 157 विकेट झटके जबकि उनके बल्ले से महज 141 रन निकले।

इस लिस्ट में दूसरा नंबर है द.अफ्रीका के पूर्व तेज गेंदबाज मकाया एंटिनी और एलन डोनाल्ड का। एंटिनी ने 173 वनडे में 266 विकेट झटके और उनके बल्ले से निकले सिर्फ 199 रन। वहीं एलन डोनाल्ड ने तो 164 वनडे में 273 विकेट लिए लेकिन वो सिर्फ 95 रन ही बना सके। ऑस्ट्रेलिया के महान तेज गेंदबाज ग्लेन मैग्रा ने करियर में 381 वनडे विकेट लिए और सिर्फ 115 रन बनाए।

रणजी ट्रॉफी: दिल्ली-यूपी के मैच के दौरान पिच पर गाड़ी लेकर घुसा एक शख्स
रणजी ट्रॉफी: दिल्ली-यूपी के मैच के दौरान पिच पर गाड़ी लेकर घुसा एक शख्स

टेस्ट के फिसड्डी बल्लेबाज

टेस्ट के सबसे फिसड्डी बल्लेबाजों की बात करें तो इस फेहरिस्त में भारतीय लेग स्पिनर भागवत चंद्रशेखर का नाम सबसे ऊपर है, उन्होंने 58 टेस्ट में 242 विकेट झटके और सिर्फ 167 रन बनाए। चंद्रशेखर 23 बार शून्य पर आउट हुए। न्यूजीलैंड के तेज गेंदबाज क्रिस मार्टिन का भी एक बल्लेबाज के तौर पर बहुत ही खराब प्रदर्सन रहा। उन्होंने 233 टेस्ट विकेट लिए और रन बनाए सिर्फ 123 और वो 36 बार शून्य पर आउट हुए। ऑस्ट्रेलिया के ब्रूस रीड और प्रज्ञान ओझा ने 113 विकेट लिए और रन बनाए सिर्फ 93-89.