सचिन तेंदुलकर से मैदान पर अक्सर दुश्मनी निभाने वाला अंपायर स्टीव बकनर

सचिन तेंदुलकर ने यूं तो क्रिकेट में कई रिकॉर्ड अपने नाम किए और 1990 के दशक के सबसे खतरनाक गेंदबाजी आक्रमण को तहस- नहस कर दिया। लेकिन इस बीच उनके एक मैदानी दुश्मन ने अपनी शक्तियों का दुरुपयोग करते हुए उन्हें मैदान से कई बार बाहर का रास्ता दिखाया। हम बात कर रहे हैं वेस्टइंडीज के अंपायर स्टीव बकनर की जो अब रिटायर्ड हो चुके हैं। बकनर जिस तरह से सचिन को गलत आउट देते थे उससे ये लगता था जैसे उन्हें सचिन को गलत आउट देने का शौक हो। कई क्रिकेटप्रेमियों का कहना था कि बकनर सचिन को गलत आउट इसलिए देते थे ताकि वह उनके हमवतन ब्रायन लारा से कम आंके जाएं। बहरहाल, ऐसा हुआ तो नहीं लेकिन सचिन के खिलाफ अपने गलत निर्णयों को लेकर बकनर पूरी दुनिया में एक सनसनी की तरह छा गए। आपको बकनर और सचिन के बीच की कुछ ऐसी ही बातों से हम रूबरू कराएंगे जो क्रिकेट इतिहास में अपनी छाप छोड़ गईं।

Sachin biggest enemy on ground Steve Buckner
फोटो साभार: www.gqindia.com

स्टीव बकनर कोई कम- अनुभव वाले अंपायर नहीं थे। बल्कि उन्होंने लगभग डेढ़ दशकों तक क्रिकेट को अपनी सेवाएं दीं और इस दौरान कई कीर्तिमान हासिल किए। उन्होंने अपने पूरे करियर में 128 टेस्ट और 181 वन-डे मैचों में अम्पायरिंग की। बकनर ने 1992, 1996, 1999, 2003 और 2007 के वर्ल्ड कप फाइनल में अम्पायरिंग की। ये अपने आप में एक रिकॉर्ड है। लेकिन इसी बीच वह सचिन को गलत आउट देने को लेकर खूब बदनाम हुए। 

1. पहला वाकया साल 2003-04 का है। भारत के ऑस्ट्रेलिया टूर के पहले टेस्ट मैच में जेसन गिलेस्पी की गेंद जो लेंथ गेंद थी वो जाकर सचिन के पैड से टकराई। गिलेस्पी ने अपील की और स्टीव बकनर ने बिना सोचे समझे सचिन को आउट दे दिया बल्कि ये गेंद किसी भी तरह से स्टंप पर नहीं जा रही थी। बकनर के इस निर्णय ने स्टेडियम व टीवी में क्रिकेट देख रहे करोड़ों भारतीय क्रिकेट फैन्स को निराश कर दिया। सचिन इस मैच में शून्य पर आउट हो गए थे।

2. यह बात तब की है जब बकनर अपने 100वें टेस्ट में अंपायरिंग कर रहे थे और ये मैच भारत और पाकिस्तान के बीच कोलकाता में खेला जा रहा था। सचिन 52 रनों पर खेल रहे थे। इसी बीच अब्दुल रज्जाक की गेंद जो ऑफ स्टंप के बाहर जा रही थी उस पर सचिन बुरी तरह से बीट हुए। चूंकि ये साफ पता चल रहा था कि उनके बल्ले का बाहरी किनारा नहीं लगा है, लेकिन बकनर ने उन्हें आनन-फानन में आउट दे दिया।

3. यह बात शारजाह की है। सचिन का वह 25वां जन्मदिन था और वह ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजों की बखिया उधेड़ते हुए टीम इंडिया को जीत की ओर लिए जा रहे थे। इसी बीच जब वह 134 रनों के व्यक्तिगत स्कोर पर खेल रहे थे तो माइकल कास्प्रोविच की गेंद जो उनके पैड में लगी और वह गेंद जब लगी तब तेंदुलकर का पैड ऑफ स्टंप के बाहर था। लेकिन इसके बावजूद बकनर ने सचिन को आउट दे दिया।