हाल ही में अर्जुन तेंदुलकर ने एक अंडर-16 टूर्नामेंट में 106 रनों की पारी खेली थी  © IANS
हाल ही में अर्जुन तेंदुलकर ने एक अंडर-16 टूर्नामेंट में 106 रनों की पारी खेली थी © IANS

भारत में नए क्रिकेटरों की पीढ़ी पर जब भी नजर दौड़ाई जाती है तो लोगों के जेहन में 16 वर्षीय अर्जुन तेंदुलकर का नाम जरूर आता है। अर्जुन बाएं हाथ के बल्लेबाज व मध्यम तेज गति के गेंदबाज हैं। भारतीय क्रिकेटप्रेमियों को अर्जुन तेंदुलकर से सचिन तेंदुलकर की विरासत को आगे ले जाने की बहुत उम्मीदें हैं। वहीं जब बात भारत-पाकिस्तान क्रिकेट की आती है तो सभी को शोएब अख्तर और सचिन तेंदुलकर की क्रिकेट मैदान पर अनोखी जंग के कुछ रोमांचित करने वाले किस्से याद आ जाते हैं। चूंकि, सचिन तेंदुलकर और शोएब अख्तर की जंग विश्व क्रिकेट में पहले से ही अपना अलग मुकाम बना चुकी है। तो अब अर्जुन के सामने कौन पाकिस्तानी क्रिकेटर अपनी चुनौती पेश करेगा? इसके जवाब में एक नए नेवेले पाकिस्तानी क्रिकेटर ने अपनी तैयारियां शुरू कर दी हैं। ये भी पढ़ें: 1 जनवरी स्पेशल: जब कोरी एंडरसन ने वेस्टइंडीज आक्रमण के छक्के छुड़ाए

faham

पाकिस्तान के वर्तमान टेस्ट कप्तान मिस्बाह-उल-हक ने भारत के भावी सितारे अर्जुन से टक्कर लेने के लिए अपने बेटे फहाम उल-हक को क्रिकेट मैदान पर प्रशिक्षण देना शुरू कर दिया है। फहाम कहते हैं कि वह अपने पिता मिस्बाह जैसे ही स्टार क्रिकेटर बनना चाहते हैं। फहाम की उम्र भले ही 10 साल है लेकिन वह गजब की बल्लेबाजी करते हैं और वह अक्सर अपने पिता मिस्बाह के साथ क्रिकेट मैदान पर अभ्यास करते नजर आते हैं। फहाम के सबसे पसंदीदा क्रिकेटर भी उसके पिता मिस्बाह हैं। फहाम बाएं हाथ के बल्लेबाज हैं और वह अपने देश की ओर से क्रिकेट खेलना चाहते हैं। हाल ही में सोशल मीडिया में एक वीडियो जारी हुआ जिसमें फहाम अपने पिता मिस्बाह के साथ क्रिकेट मैदान पर अभ्यास करते नजर आ रहे हैं। वहीं, हाल ही में अर्जुन तेंदुलकर जिमखाना स्टेडियम में खेले गए अंडर-16 पय्याडे ट्रॉफी में सुनील गावस्कर एकादश की ओर से खेलते हुए नजर आए थे जिसमें उन्होंने 106 रन बनाए थे। इस पारी में उन्होंने 16 चौके और 2 छक्के लगाए। ये भी पढ़ें: साल 2015 में वनडे क्रिकेट के 5 सबसे सफल गेंदबाज

मिस्बाह पाकिस्तान क्रिकेट के टीम के बेहतरीन कप्तानों में से एक हैं। मिस्बाह की कप्तानी में इस साल पाकिस्तान टेस्ट टीम ने आठ में से 5 टेस्ट मैच जीते हैं। मिस्बाह ने कुछ महीनों पहले सीमित ओवरों की क्रिकेट से संन्यास ले लिया था। वह अपनी टीम के लिए टेस्ट क्रिकेट में खेलते हैं।

ये भी पढ़ें: 1 जनवरी स्पेशल: जब कोरी एंडरसन ने वेस्टइंडीज आक्रमण के छक्के छुड़ाए