live cricket score, live score, live score cricket, india vs england live, india vs england live score, ind vs england live cricket score, india vs england 4th test match live, india vs england 4th test live, cricket live score, cricket score, cricket, live cricket streaming, live cricket video, live cricket, cricket live Mumbai
विराट कोहली ने इंग्लैंड के खिलाफ शानदार बल्लेबाजी की © Getty Images

भारत और इंग्लैंड के बीच खेले जा रहे चौथे टेस्ट मैच के तीसरे दिन भारतीय कप्तान विराट कोहली ने अपने टेस्ट करियर में चार हजार रन पूरे कर लिए। विराट कोहली टेस्ट में चार हजार रन बनाने वाले छठें सबसे तेज भारतीय खिलाड़ी हैं। विराट कोहली से आगे वीरेंद्र सहवाग, सुनील गावस्कर, राहुल द्रविड़, सचिन तेंदुलकर, मोहम्मद अजहरुद्दीन हैं। विराट कोहली इंग्लैंड के खिलाफ बेहतरीन फॉर्म में हैं और उनका बल्ला लगातार रन बरसा रहा है। कोहली ने तीसरे दिन अपना अर्धशतक भी पूरा किया। आइए नजर डालते हैं भारत के लिए सबसे तेज चार हजार रन बनाने वाले छह खिलाड़ियों पर।

6. विराट कोहली: 89 पारी: विराट कोहली दुनिया के सबसे बेहतरीन बल्लेबाजों में से एक हैं। कोहली नित नए कीर्तिमान रचते जा रहे हैं। कोहली ने हाल ही में इंग्लैंड के खिलाफ चौथे टेस्ट मैच में अर्धशतक जड़कर अपने टेस्ट करियर में चार हजार रन पूरे किए। साथ ही कोहली भारत की तरफ से छठें सबसे तेज चार हजार रन बनाने वाले बल्लेबाज बन गए हैं। कोहली ने 89 पारियों में इस कारनामे को हासिल किया है। कोहली ने अपने करियर में अब तक 14 शतक और 14 ही अर्धशतक जड़े हैं। वहीं कोहली का सर्वश्रेष्ठ 211 रन रहा है।   भारत बनाम इंग्लैंड चौथे टेस्ट के तीसरे दिन का लाइव ब्लॉग पढ़ने के लिए क्लिक करें

5. मोहम्मद अजहरुद्दीन: 88 पारी: सूची में पांचवें नंबर पर जगह बनाने वाले मोहम्मद अजहरुद्दीन ने 62 मैचों की 88 पारियों में अपने चार हजार रन पूरे किए। अजहरुद्दीन ने न्यूजीलैंड के खिलाफ इस उपलब्धि को अपने नाम किया। अजहरुद्दीन ने अपने करियर में 99 टेस्ट में 6,215 रन बनाए। साथ ही अजहर ने इस दौरान 22 शतक और 21 अर्धशतक भी लगाए। अजहरुद्दीन का सर्वश्रेष्ठ 199 रन रहा। अजहरुद्दीन ने अपनी कलात्मक बल्लेबाजी से भारत को कई मैच में जीत दिलवाई।

4. सचिन तेंदुलकर: 86 पारी: सचिन तेंदुलकर के नाम क्रिकेट के ढेरों रिकॉर्ड हैं। सचिन इस सूची में चौथे नंबर पर हैं। सचिन ने 58 टेस्ट की 86 पारियों में अपने चार हजार रन पूरे किए थे। सचिन ने श्रीलंका के खिलाफ मुंबई में अपने करियर के चार हजार रन पूरे किए थे। सचिन ने अपने टेस्ट करियर में 200 टेस्ट मैचों में 15,921 रन बनाए हैं। सचिन ने इस दौरान 51 शतक और 68 अर्धशतक ठोके हैं। सचिन का सर्वश्रेष्ठ 248 पर नाबाद रहा था। सचिन चाहे टेस्ट हो या वनडे सचिन हमेशा भारत के सबसे बड़े मैच विनर रहे हैं।

3. राहुल द्रविड़: 84 पारी: सूची में नंबर तीन पर जगह बनाने वाले भारत के सबसे भरोसेमंद खिलाड़ी राहुल द्रविड़ ने चार हजार रन बनाने के लिए कुल 48 टेस्ट और 84 पारी लीं। द्रविड़ ने साल 2001 में कोलंबो में श्रीलंका के खिलाफ खेलते हुए इस उपलब्धि को अपने नाम किया था। राहुल द्रविड़ ने अपने करियर में कुल 164 टेस्ट मैचों में 13,288 रन बनाए हैं। साथ ही रहुल ने 36 शतक और 63 अर्धशतक लगाए। राहुल का औसत 52.31 का रहा और उनका सर्वश्रेष्ठ 270 रन रहा था। राहुल द्रविड़ भारत के सबसे भरोसेमंद बल्लेबाज रहे हैं। राहुल ने भारत को कई यादगार मैच जिताए हैं।

2. सुनील गावस्कर: 81 पारी: दूसरे नंबर पर रहने वाले सुनील गावस्कर ने 43 टेस्ट की 81 पारियों में अपने चार हजार रन पूरे किए थे। गावस्कर ने साल 1978 में कोलकाता में वेस्टइंडीज के खिलाफ इस कारनामे को अंजाम दिया था। गावस्कर ने उस मैच में दोनों पारियों में शतक जड़ा था। गावस्कर ने पहली पारी में 107 और दूसरी पारी में नाबाद 182 रन बनाए थे। गावस्कर ने अपने टेस्ट करियर में 125 मैचों में 10,122 रन बनाए थे। गावस्कर ने इस दौरान 34 शतक और 45 अर्धशतक जड़े थे। गावस्कर ने 51.12 की औसत से रन बनाए थे साथ ही गावस्कर का सर्वश्रेष्ठ 236 पर नाबाद था। ये भी पढ़ें: वनडे अंतरराष्ट्रीय मैचों में 9 ऐसे खिलाड़ी जिनका व्यक्तिगत स्कोर पूरी टीम पर पड़ गया भारी

1. वीरेंद्र सहवाग: 79 पारी: सूची में पहले नंबर पर जगह बनाने वाले बल्लेबाज हैं भारत के सबसे विस्फोटक बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग। सहवाग ने 48 टेस्ट मैचों की 79 पारियों में चार हजार रन बनाए। सहवाग ने साल 2006 में वेस्टइंडीज के खिलाफ इस उपलब्धि को हासिल किया। सहवाग ने उस मैच में 31 और 65 का स्कोर बनाया था। वहीं सहवाग ने अपने टेस्ट करियर में 104 मैचों में 8,586 रन बनाए हैं। सहवाग ने इस दौरान 23 शतक, 32 अर्धशतक जडे़। सहवाग के करियर का औसत 49.34 का रहा तो उनका सर्वश्रेष्ठ 319 रन रहा था। सहवाग के बारे में कहा जाता था कि उनकी तकनीक टेस्ट के हिसाब से सही नहीं है लेकिन सहवाग ने सभी आलोचकों को करारा जवाब देते हुए टेस्ट में ही कई कीर्तिमानों को हासिल कर डाला।