सौरव गांगुली बर्थ डे विशेष: जानें सौरव गांगुली के बारे में कुछ अनसुनी बातें
फोटो साभार: www.espncricinfo.com

सौरव गांगुली कोलकाता के एक बेहद रईस परिवार में पैदा हुए और भारतीय टीम की ओर से किसी बॉस की तरह खेले। बचपन से सौरव गांगुली की मां निरुपमा उन्हें क्रिकेट खेलते हुए नहीं देखना चाहती थीं, क्योंकि इससे उनकी पढ़ाई खराब हो रही थी। लेकिन उनके बड़े भाई स्नेहाशीष के कहने पर सौरव को क्रिकेट एकेडमी में भर्ती करवाया गया जब वह 10वीं कक्षा की गर्मियों की छुट्टियां मना रहे थे। आज सौरव गांगुली पूरे 44 साल के हो गए हैं। ऐसे में हम आपको ‘द प्रिंस ऑफ कोलकाता’ के बारे में कुछ ऐसी बातें बताने जा रहे हैं जो आपने आज से पहले कभी नहीं सुनी होंगी।

1. टीम के खिलाड़ियों का सबसे बड़ा समर्थक:

Sourav Ganguly Birthday special: Find out interesting facts about Former Indian captain
फोटो साभार: www.spora.in

सौरव गांगुली को मैदान पर उनके आक्रामक स्वभाव के लिए जाना जाता था। लेकिन जब खुद की टीम के खिलाड़ियों की बात आती थी तो उनसे बड़ा समर्थक कोई नहीं था। बात साल 2001 की है। ऑस्ट्रेलिया भारत का दौरा करने आ रही थी। टीम इंडिया का सिलेक्शन हो रहा था। इसी बीच सौरव सिलेक्शन रूम में जाकर अड़ गए और उन्होंने कहा कि जब तक मैं हरभजन का नाम लिस्ट में नहीं देख लेता। मैं टस से मस नहीं होऊंगा। [ये भी पढ़ें: ]

हरभजन का नाम आखिरकार शामिल किया गया और इस सीरीज में हरभजन सिंह ने धमाल मचा दिया। युवराज सिंह ने खुद एक बार सौरव गांगुली के लिए कहा था कि वह ऐसे कप्तान के लिए जान दे सकते हैं। यह बताता है कि किस तरह से सौरव ने भारतीय टीम को संवारा और एक सशक्त टीम के रूप में विश्व के सामने प्रस्तुत किया।

2. खिलाड़ियों की नजरों में झलकता था गांगुली के लिए सम्मान:

Sourav Ganguly Birthday special: Find out interesting facts about Former Indian captain
फोटो साभार: www.sportskeeda.com

जवागल श्रीनाथ सौरव गांगुली से बहुत सीनियर खिलाड़ी थे। जब सौरव गांगुली कप्तान बने तो वह संन्यास लेने वाले थे लेकिन गांगुली के कहने पर श्रीनाथ ने तीन बार संन्यास लेने का फैसला लेने के बावजूद अपना प्लान बदल दिया। ये बताता है कि श्रीनाथ के दिल में गांगुली के लिए कितनी बड़ी जगह थी।

3. जहां सचिन कभी नहीं बना पाए शतक वहां करियर का पहला शतक बनाया:

Sourav Ganguly Birthday special: Find out interesting facts about Former Indian captain
फोटो साभार: www.sportskeeda.com

सौरव गांगुली ने साल 1996 में लॉर्डस के मैदान पर अपने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट जीवन का पहला क्रिकेट टेस्ट मैच खेला और पहले ही मैच में शतक ठोक दिया। गांगुली ने इस मैच में कुल 131 रन बनाए थे। गौर करने वाली बात ये है कि सचिन तेंदुलकर जिनके नाम 100 शतकों का रिकॉर्ड दर्ज है वह भी कभी लॉर्डस के मैदान पर शतक जमाने में कामयाब नहीं हो पाए हैं। वहीं मिस्टर वॉल राहुल द्रविड़ को लॉर्डस पर अपना एकमात्र शतक लगाने के लिए लंबा इंतजार करना पड़ा।

4. जब गांगुली को बॉलीवुड एक्ट्रेस से हुआ प्यार:

Sourav Ganguly Birthday special: Find out interesting facts about Former Indian captain
फोटो साभार: www.rediff.com

सौरव गांगुली की शादी के लगभग डेढ़ साल बात उनके अफेयर के चर्चे बॉलीवुड अभिनेत्री नगमा के साथ सुनने को मिले थे। खुद नगमा ने सौरव से ब्रेकअप के बाद इस बात को स्वीकार किया था कि वह और सौरव एक दूसरे के प्यार में थे। यही नहीं नगमा ने यह बात भी स्वीकारी थी कि आखिर क्यों सौरव और उनके प्यार की डोर बीच राह में ही टूट गई थी? सौरव गांगुली और नगमा का अफेयर दोनों के फैंस के लिए किसी आश्चर्य से कम नहीं था।

जब दोनों के अफेयर की बात सामनें आई उससे कुछ समय पहले ही सौरव गांगुली टीम इंडिया के कप्तान बने थे। इसलिए दोनों के अफेयर की खबरें और तेजी से फैलीं। 2001 में दोनों का रिलेशनशिप तब प्रकाश में आया जब दक्षिण भारत के कई अखबारों में दोनों की फोटोज छपी। दोनों को आंध्रप्रदेश के चित्तूर के एक मंदिर में एक साथ देखा गया। जिसके बाद कई दिनों तक उनके प्रेम प्रसंग के बारे में मीडिया में खबरें छाई रहीं।

दोनों के अफेयर ने लोगों को इसलिए भी सोचने को मजबूर किया, क्योंकि सौरव पहले से ही डोना के साथ शादीशुदा थे। इस अवैध रिलेशनशिप से उनकी शादीशुदा जिंदगी में उथल पुथल मच सकती थी। मीडिया में आई खबरों के मुताबिक दोनों की मुलाकात 1999 में वर्ल्ड कप के एक मैच के दौरान हुई थी जिसके बाद दोनों लगातार एक दूसरे के संपर्क में थे। हालांकि सौरव गांगुली ने हमेशा दोनों के अफेयर की खबरों का खंडन किया।

5. सौरव गांगुली का अनोखा अंदाज:

Sourav Ganguly Birthday special: Find out interesting facts about Former Indian captain
फोटो साभार: www.espncricinfo.com

सौरव को शुरुआती दिनों में टीम इंडिया से इसलिए निकाल दिया गया था क्योंकि वह घमंडी थे। जब साल 1992 में वह टीम इंडिया से बाहर हो गए तो उन्होंने अपने घर में प्रेक्टिश करने के लिए निजी मशीन इन्सटॉल्ड करवाई थी। सौरव गांगुली ने साल 2003 विश्व कप में केन्या के विरुद्ध सेमीफाइनल में शतक जड़ा था और इस तरह वह सेमीफाइनल में शतक जड़कर टीम को फाइनल में पहुंचाने वाले वाले अरविंदा डी सिल्वा और महेला जयवर्धने के साथ तीसरे खिलाड़ी हैं।

यह माना जाता है कि सौरव गांगुली भगवान की भक्ति खूब करते हैं और वह हर मंगलवार व्रत भी रखते हैं। कोलकाता में एक अपार्टमेंट है जिसका नाम उनके नाम पर रखा गया है। इस अपार्टमेंट का नाम ‘सौरव हाउसिंग कॉम्प्लेक्स’ है। सौरव गांगुली भले ही एक बड़े क्रिकेटर हों, लेकिन वह बचपन से ही फुटबॉल खेल के बहुत बड़े फैन रहे हैं।