Southampton test was a turning point for England in 2014 test series
Virat Kohli celebrates after India had dismissed Joe Root © Getty Images

पांच टेस्ट मैचों की सीरीज का चौथा मुकाबला साउथम्पटन के ‘द एजेस बॉउल’ मैदान पर खेला जाना है। भारतीय टीम को सीरीज में बने रहने के लिए इस मुकाबले को हर हाल में जीतना है। पिछली दफा जब दोनों टीमें इस मैदान पर खेली थी तो टीम इंडिया को करारी शिकस्त मिली थी और सीरीज का नतीजा भी इसी मैच के बाद बदला था।

साल 2014 में जब भारतीय टीम इंग्लैंड दौरे पर आई थी तो टेस्ट सीरीज की शुरुआत ड्रॉ के साथ की थी और दूसरा मुकाबला 95 रन से अपने नाम किया था। साउथम्पटन में टीम इंडिया मेजबान पर 1-0 की बढ़त के साथ पहुंची थी। यहीं से सीरीज की तस्वीर बदली और भारत ने 1-3 से सीरीज गंवा दिया।

साउथम्पटन में मिली थी 266 रन की हार

टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए इंग्लैंड ने भारतीय गेंदबाजों की धज्जियां उड़ाते हुए 7 विकेट पर 569 रन बनाए और पारी घोषित की। दूसरी पारी में भी चार विकेट पर 205 रन बनाकर पारी घोषित की थी। भारतीय गेंदबाज दोनों पारी में 774 रन देकर सिर्फ 11 विकेट निकाल पाए थे। टीम इंडिया के बल्लेबाजों का हाल भी बुरा रहा था। पहली पारी में 330 रन तो दूसरी में पूरी टीम महज 178 रन पर ही सिमट गई। भारत को मैच में 266 रन की करारी शिकस्त का सामना करना पड़ा।

साउथम्पटन टेस्ट में पलटी सीरीज

सीरीज का पहला मुकाबला ड्रॉ करने के बाद इंग्लैंड को दूसरे मैच में 95 रन की हार मिली थी। हार से टीम के मनोबल को धक्का लगा था लेकिन साउथम्पटन के जीत ने टीम में ऐसा जोश भरा की लगातार दो मुकाबले में भारतीय टीम को पारी से धूल चटाते हुए इंग्लिश टीम ने सीरीज अपने नाम कर ली।

चौथे और पांचवें मैच में मिली थी पारी की हार

भारतीय टीम तो सीरीज के चौथे मैच में पारी और 54 रन से हार का सामना करना पड़ा था। आखिरी मुकाबले में टीम इंडिया ने तो घुटने ही टेक दिए। पारी और 244 रन की शर्मनाक हार के साथ टूटा था सीरीज बराबर करने का सपना।