सुरेश रैना भारत की ओर से T20I में शतक लगाने वाले पहले बल्लेबाज हैं © Getty Images
सुरेश रैना भारत की ओर से T20I में शतक लगाने वाले पहले बल्लेबाज हैं © Getty Images

भारतीय टीम साउथ अफ्रीका के खिलाफ अपना दूसरा अभ्यास मैच खेलने के लिए मुंबई पहुंच चुकी है। हालांकि विश्व कप में भारत और साउथ अफ्रीका दो अलग-अलग ग्रुप में है लेकिन ये दोनों टीमें टी20 विश्व कप में जब भी भिड़ी हैं दर्शकों को शानदार मुकाबला देखने को मिला है। भारत ने अपना पहला T20I मैच भी साउथ अफ्रीका के खिलाफ ही खेला था। भारत और साउथ अफ्रीका के बीच वैसे तो बहुत से यादगार मुकाबले हैं लेकिन टी20 विश्व कप 2010 को हुआ भारत-साउथ अफ्रीका मुकाबला भारत के लिए जीत की सौगात के साथ पहला T20I शतक भी लाया। भारत के लिए इस मैच में सुरेश रैना ने शानदार बल्लेबाजी करते हुए T20I में भारत के लिए पहला शतक लगाते हुए मात्र 60 गेंदों पर 101 रनों की पारी खेली। आइए आपको ले चलते हैं इतिहास के उस दौर में जब रैना के साउथ अफ्रीकन अटैक नतमस्तक हो गया था। ALSO READ: टी20 विश्व कप 2007(वीडियो): युवा रोहित शर्मा का शानदार आगाज

2 मई 2010 को टी20 विश्व कप 2010 के पांचवे मुकाबले में भारतीय टीम का सामना साउथ अफ्रीका से था। डेल स्टेन, मोर्ने मोर्कल, रोरी क्लेंगवेल्ट जैसे तेज गेंदबाजों के सामने भारत को पहले बल्लेबाजी करनी पड़ी। भारत को पहला झटका पहले ही ओवर में लग गया जब सलामी बल्लेबाज मुरली विजय मैच की दूसरी ही गेंद पर रोरी क्लेंगवेल्ट का शिकार बन गए। इसके बाद रैना क्रीज पर बल्लेबाजी करने के लिए आये। रैना ने संभल कर खेलते हुए नजरे जमाने के बाद अपने शाट्स खेलने शुरू किये। रैना ने पांचवे ओवर की अंतिम गेंद पर मोर्ने मोर्कल को चौका लगाकर अपनी बाउंड्री का खाता खोला। अगले ओवर में रैना ने कालिस को चौका जड़ा। रैना ने स्टेन की गेंद पर 1 रन लेकर अपने पचास रन पूरा करने के बाद अगली गेंद पर चौका जड़कर जश्न मनाया। ALSO READ: वीडियो: भारत, पाकिस्तान और बॉल आउट

पारी का 16वां ओवर लेकर आए रोरी क्लेंगवेल्ट को रैना ने 2 छक्के लगाये। इसके बाद रैना पूरी तरह से आक्रामण की रणनीति अपना ली। रैना ने अगले ओवर में मोर्ने मोर्कल को 1 चौका जड़ा तो क्लेंगवेल्ट के अगले ओवर में तीन लगातार चौका और एक छक्का जड़ दिया। एल्बी मोर्कल को छक्का मारकर रैना ने अपना शतक पूरा किया। इस शतक के साथ रैना भारत की ओर से T20I में शतक लगाने वाले पहले बल्लेबाज बने। रैना ने अपनी इस पारी में 9 चौके और 5 छक्के जमाए। शतक पूरा करने के बाद रैना आउट हो गए। रैना के शतक की बदौलत भारत ने साउथ अफ्रीका के सामने 187 रन का लक्ष्य रखा।

लक्ष्य का पीछा करने उतरी साउथ अफ्रीका टीम की ओर से कालिस ने संघर्ष किया लेकिन वो टीम को जीत की राह तक नहीं पहुंचा सके। कालिस ने 54 गेंदों पर 73 रन की पारी खेली। साउथ अफ्रीकन टीम निर्धारित 20 ओवर में सिर्फ 172 रन ही बना सकी और भारत ने ये मैच 14 रनों से जीत लिया। सुरेश रैना को उनकी इस शानदार पारी के लिए मैन ऑफ द मैच खिताब से नवाजा गया।