सुरेश रैना की खराब फॉर्म भारतीय मध्य क्रम को कमजोर बना रहा है © Getty Images
सुरेश रैना की खराब फॉर्म भारतीय मध्य क्रम को कमजोर बना रहा है © Getty Images

भारतीय टीम पाकिस्तान को हराकर जीत की अपनी राह पर लौट चुकी है, लेकिन टीम में अभी भी बहुत सी कमियां हैं जो भारत को विश्व कप का खिताब दिलाने से रोक सकती हैं। टीम में वैसे तो कई कमियां दिख रही है लेकिन भारतीय मध्य क्रम के बल्लेबाज सुरेश रैना टीम के लिए सबसे बड़ी चिंता बने हुए हैं। पिछले कई मैचों में रैना के बल्ले से रन नहीं निकले हैं। रैना जिस तरह की बल्लेबाजी के लिए जानें जाते हैं उसकी झलक भी नहीं दिखा पाए हैं। रैना की खराब फॉर्म का सिलसिला एशिया कप के बाद विश्व कप में भी जारी है। पिछली दो सीरीज में उनके बल्ले से एक भी अच्छी पारी नहीं निकली। ALSO READ: ‘क्या क्या ना किया हमने मगर हम जीत नहीं पाए’

एशिया कप के 5 मैचों में रैना के बल्ले से सिर्फ 39 रन निकले जिनमें उनका औसत 13 का रहा जो उनके करियर औसत 30 से काफी नीचे है। विश्व कप के पहले दो मैचों में भी रैना कोई कमाल नहीं दिखा सके हैं। न्यूजीलैंड के खिलाफ उनके बल्ले से सिर्फ 1 रन निकले तो पाकिस्तान के खिलाफ वो खाता भी नहीं खोल सके। रैना के खराब प्रदर्शन की वजह से टीम का मध्य क्रम बहुत कमजोर नजर आ रहा है। ALSO READ: एक मुकाबला जिसमें पाकिस्तान के हाथ लगी बाजी

रैना नंबर चार पर बल्लेबाजी करने आते हैं उनके बाद युवराज और फिर कप्तान धोनी बल्लेबाजी करने के लिए आते हैं। रैना के पास विकेट पर टिकने का भी पर्याप्त समय होता है, लेकिन उनके सामने जो सबसे बड़ी समस्या आ रही है वो ये है कि वो विकेट पर टिक नहीं पा रहे और टिक भी जाते हैं तो अपना विकेट गैरजिम्मेदाराना तरीके से फेंक देते है। इस साल खेले गए 13 T20I मुकाबलों में उनके बल्ले से एक भी अर्धशतक नहीं निकल सका है।

रैना को इस खराब दौर से जल्दी ही उबरकर पुराने फॉर्म में लौटना होगा वरना टीम में उनकी जगह लेने के लिए अंजिक्य रहाणे जैसे बल्लेबाज तैयार बैठे हैं। रैना अगर फॉर्म में नहीं आए तो भारत के लिए भी समस्या होगी क्योंकि रैना टी20 के सबसे दमदार खिलाड़ियों में से एक गिने जाते हैं। रैना के फैंस को उम्मीद है कि वो बुधवार को बांग्लादेश के खिलाफ होने वाले मुकाबले में अपने बल्ले की धार दिखाएंगे और फॉर्म में लौटेंगे।