विराट कोहली ने पहले वनडे में नाबाद अर्धशतक लगाया था © Getty Images
विराट कोहली ने पहले वनडे में नाबाद अर्धशतक लगाया था © Getty Images

भारत और न्यूजीलैंड के के बीच खेले गए वनडे मैच में भारत ने जहां मैच में जीत दर्ज कर ली, तो भारत के उपकप्तान विराट कोहली ने मैच में एक और शिखर छू लिया। वैसे तो विराट कोहली रिकॉर्डों के पर्याय बन गए हैं। सचिन के बाद लगभग हर रिकॉर्ड को अपने नाम करते जा रहे कोहली ने धर्मशाला वनडे में भी एक मुकाम हासिल कर लिए।

भारत की जीत में हार्दिक पंड्या ने अपनी गेंदबाजी और विराट कोहली ने अपनी बल्लेबाजी से अहम भूमिका अदा की। धर्मशाला में अपनी 85 रनों की पारी के दौरान कोहली रनों का पीछा करते हुए चौथे सबसे कामयाब भारतीय बल्लेबाज बन गए हैं। विराट कोहली ने मोहम्मद अजहरुद्दीन को पीछे छोड़ा। आइए देखते हैं कि लक्ष्य का पीछा करते हुए सबसे ज्यादा रन बनाने वाले भारतीय बल्लेबाज कौन से हैं। ये भी पढ़ें: जब भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी रन आउट हुए

5. मोहम्मद अजहरुद्दीन:

इस क्रम में मोहम्मद अजहरुद्दीन पांचवें नंबर पर हैं। मोहम्मद अजहरुद्दीन ने कुल 334 मैचों में से 173 में लक्ष्य का पीछा करते हुए बल्लेबाजी की। अजहर ने इस दौरान कुल 4,469 रन बनाए। अजहर ने अपने करियर में उन्होंने कुल 9,378 रन बनाए। रनों का पीछा करते हुए उनका उच्चतम स्कोर 111 रन नाबाद रहा। वहीं करियर में उनका उच्चतम स्कोर 153 (नॉट आउट) रहा। अजहर के करियर का बल्लेबाजी औसत जहां 36.92 है वहीं दूसरी पारी में उनका औसत 37.24 हो जाता है। करियर में कुल सात वनडे शतक लगाने वाले अजहर ने दूसरी पारी में 2 शतक लगाए।

4. विराट कोहली:

विराट कोहली ने अपने करियर में कुल 172 वनडे मैचों में 7,297 रन बनाए हैं। उनका बल्लेबाजी औसत भी 52.12 रहा है। कोहली ने अभी तक कुल 25 शतक लगाए हैं। यह अपने आप में एक शानदार रिकॉर्ड है। लेकिन बात जब रनों का पीछा करने की आती है तो कोहली का खेल और निखर जाता है। कोहली ने अभी तक रनों का पीछा करते हुए खेले गए 96 मुकाबलों में अपने करियर की औसत से भी ज्यादा 62.40 की औसत से 4,493 रन बनाए हैं। उनका उच्चतम स्कोर (183) भी इसी दौरान बना है। कोहली ने 25 में से कुल 15 शतक रनों का पीछा करते हुए बनाए हैं। ये रिकॉर्ड इस बात का गवाह हैं कि आने वाले समय में कोहली भारत के ही नहीं दुनिया के सबसे महान बल्लेबाज बनने की राह पर हैं।

3. राहुल द्रविड़:

द वॉल के नाम से मशहूर और भारत के सबसे भरोसेमंद बल्लेबाज रहे राहुल द्रविड़ ने अपने करियर में कुल 344 वनडे मुकाबलों में 39.16 की औसत से 10,889 रन बनाए हैं। वहीं रनों का पीछा करते हुए उन्होंने 167 मैचों में 4,566 रन बनाए। रनों का पीछा करते हुए द्रविड़ का बल्लेबाजी औसत 35.12 का रहा है जबकि उनका करियर औसत 35.12 का रहा है। राहुल द्रविड़ ने इस दौरान 3 शतक भी लगाए हैं। राहुल द्रविड़ ने इस दौरान भारत को कई अहम और याजगार मैच जिताए हैं। ये भी पढ़ें: क्या भारत को हार्दिक पांड्या के रूप में बेहंतरीन हरफनमौला खिलाड़ी मिल गया?

2. सौरव गांगुली:

भारत के पूर्व कप्तान और भारत की बल्लेबाजी की रीढ़ सौरव गांगुली ने 311 वनडे में 41.02 की औसत से 11,363 रन बनाए हैं। वहीं बात जब लक्ष्य का पीछा करते हुए बल्लेबाजी करने की हो तो गांगुली ने 152 मुकाबलों में 39.46 के शानदार बल्लेबाजी औसत से कुल 5,209 रन बनाए हैं। इस दौरान उनका उच्चतम स्कोर 135 नाबाद रहा है। गांगुली ने करियर में 22 शतक लगाए जिनमें से 7 दूसरी पारी में लगे। सौरव गांगुली ने भारत के लिए कई यादगार पारियां खेली हैं।

1. सचिन तेंदुलकर:

जरा इन आंकड़ों पर नजर डालिए- 463 मुकाबले। 18426 रन। 44.83 का औसत और 49 शतक। सचिन तेंदुलकर के ये रेकॉर्ड किसी भी बल्लेबाज के लिए प्रेरणा हो सकते हैं। लक्ष्य का पीछा करते हुए भी सचिन फिलहाल सबसे आगे हैं। इस दौरान सचिन ने कुल 236 मुकाबलों में 42.33 की औसत से 8,720 रन बनाए। करियर में लगाए 49 शतकों में से 17 सचिन ने रनों का पीछा करते हुए लगाए। इस दौरान सचिन का उच्चतम स्कोर रहा 175 रहा। सचिन तेंदुलकर के रिकॉर्डों के आस पास भी कोई नहीं है, लेकिन विराट इसी तरह से खेलते गए तो आने वाले समय में विराट कोहली क्रिकेट के भगवान का रिकॉर्ड तोड़ सकते हैं।

विराट कोहली बहुत तेजी और निरंतरता के साथ रन बना रहे हैं। अभी तक उनके करियर में एक भी ऐसा मौका नहीं आया जब कोहली आउट ऑफ फॉर्म रहे हों। विराट की तकनीकि और बल्लेबाजी की शैली उन्हें मौजूदा पीढ़ी का सबसे अच्छा बल्लेबाज बनाती है। कोहली के प्रदर्शन को देखते हुए टीम प्रबंधन ने उन्हें टेस्ट की कमान सौंप दी है।

कई बार सचिन भी कह चुके हैं कि अगर भविष्य में मेरा कोई रिकॉर्ड तोड़ सकता है तो वह विराट कोहली ही हैं। ऐसे में देखना होगा कि क्या विराट कोहली क्रिकेट के भगवान के रिकॉर्ड को तोड़ पाते हैं या नहीं।