दिल्ली का नहीं, मध्यप्रदेश के कटनी का रहने वाला है विराट कोहली का परिवार
फोटो साभार: sports.ndtv.com

भारतीय क्रिकेट टीम के जांबाज क्रिकेटर विराट कोहली दिल्ली से हैं ये सब जानते हैं , लेकिन यह शायद बहुत कम लोगों का पता है कि कोहली का परिवार मुख्य रूप से मध्यप्रदेश के कटनी का रहने वाला है। ‘दैनिक भास्कर डॉट कॉम’ में छपी खबर के मुताबिक विराट कोहली के चाचा- चाची इसी शहर में रहते हैं। विराट आखिरी बार साल 2005 में कटनी अपने चाचा- चाची से मिलने आए थे। विराट की चाची आशा जो शहर की माहापौर भी रह चुकी हैं कहती हैं कि जब साल 1947 में भारत- पाक का विभाजन हुआ तो विराट के दादा कटनी आ गए थे। यही नहीं विराट के पिता प्रेम कोहली की पढ़ाई भी कटनी के गुलाबचंद स्कूल से हुई।

Virat Kohli family originally hail from Katni, Madhya Pradesh
फोटो साभार: www.bhaskar.com

उन्होंने बताया कि कुछ सालों के बाद वे सारंगपुर चले गए और अगले कुछ सालों में दिल्ली में रहने लगे। कोहली के चाचा का कहना है कि उनकी विराट से अंतिम बार बात कब हुई थी उन्हें याद तक नहीं है। उनका कहना है कि जब से उसने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलना शुरू की है तबसे सिर्फ दो बार उनकी बात हुई है। वह कहते हैं कि विराट अब सेलीब्रिटी हैं और उससे बात करने में उन्हें काफी मशक्कत करनी पड़ती है और इसी वजह से वे विराट को परेशान नहीं करते। उन्होंने बताया कि विराट की मां और उनके बड़े भाई विकास से उनकी लगातार बात होती रहती है। 

साल 2005 के बाद से नहीं आए विराट: विराट के चाचा गिरीश का कहना है कि साल 2005 में उनके बेटे की मृत्यु हो गई थी और उसी समय विराट आए थे। गिरिश ने बताया कि विराट के पिता 15 साल नैरोबी में भी रहे। दिल्ली में विराट के पिताजी ने व्यवसाय शुरू किया था, जिसे अब विराट का बड़ा भाई संभाल रहा है। उनकी बड़ी बहन की शादी हो चुकी है। विराट न्यूजीलैंड के दौरे के कारण बहन की शादी में भी शरीक नहीं हो पाए थे। विराट के चचेरे भाई एक एमएनसी कंपनी में काम करते हैं। उनका कहना है कि विराट ज्यादा व्यस्त रहते हैं इसलिए हम उन्हें ज्यादा परेशान नहीं करते।

गौरतलब है कि विराट कोहली ने हाल ही में गुणगांव(गुरुग्राम) में एक शानदार घर खरीदा है। इस संबंध में बताते हुए उनकी चाची ने बताया कि कोहली को पश्चिम विहार वाले घर से एयरपोर्ट आने-जाने और अन्य कामों के लिए काफी समस्या आती थी, इसलिए वे गुड़गांव(गुरुग्राम) शिफ्ट हो गए हैं। करीब पांच महीने पहले ही वे अपने गुड़गांव के घर में गए हैं।