कोहली के पहला वनडे शतक जमाने पर गंभीर ने अपना मैन ऑफ द मैच उन्हें दे दिया था © PTI
कोहली के पहला वनडे शतक जमाने पर गंभीर ने अपना मैन ऑफ द मैच उन्हें दे दिया था © PTI

खिलाड़ियों के बीच अक्सर अनबन की खबरें सुनी जाती है, कई बार खिलाड़ी मैच के दौरान भावनाओं में बहकर अपने साथी खिलाड़ियों या विपक्षी टीम के खिलाड़ियों से कहासुनी कर लेते हैं, लेकिन ऐसा नहीं होता कि उस कहासुनी के बाद उनके संबंध खराब हो जाते हैं। कई बार मीडिया इन खिलाड़ियों के आपसी संबंधों को तोड़ मरोड़ कर दिखाती है। मगर इन खिलाड़ियों के बीच अनबन जैसी कोई बात नहीं होती। अगर भारतीय खिलाड़ियों के बीच संबंधों की बात करें तो महेन्द्र सिंह धोनी और युवराज सिंह, गौतम गंभीर और विराट कोहली जैसे खिलाड़ियों के बीच के अनबन की बात हमेशा सुर्खियों में रहती है।

अगर बात करें विराट कोहली और गौतम गंभीर के बीच के संबंध की तो इन दोनों खिलाड़ियों के बीच आईपीएल 2013 के दौरान मैदान पर कहासुनी हुई थी। इसके बाद इन दोनों के संबंधों को लेकर अक्सर चर्चा रही कि इन दोनों खिलाड़ियों में आपस में नहीं बनती। लेकिन हाल ही में टीम में वापसी करने वाले गंभीर प्रेक्टिस के दौरान कोहली से हंसी मजाक करते नजर आए। दूसरे टेस्ट में जगह नहीं दिये जाने पर भी उनके मन में कोहली के लिए कोई नाराजगी नजर नहीं और वो ड्रेसिंग रूप में कोहली के साथ गप्पे मारते नजर आए। इन दोनों के इस व्यवहार से ये साफ देखा जा सकता है कि इन दोनों के बीच अनबन जैसी कोई बात नहीं है। बल्कि कोहली के लिए गंभीर हमेशा एक सीनियर खिलाड़ी की तरह रहे हैं। गंभीर हमेशा कोहली को उच्च कोटि का बल्लेबाज माना है और उनकी तारीफ की है। [Also Read: जारी है विराट कोहली का घरेलू मैदानों पर खराब प्रदर्शन]

जब कोहली ने इंटरनेशनल क्रिकेट में अपना पहला शतक जमाया था तब दूसरे छोर पर गंभीर ही थे और मैच खत्म होने के बाद उन्होंने कुछ ऐसा किया था जिससे ये साबित होता है कि गंभीर कोहली का कितना सम्मान करते हैं। 24 दिसंबर 2009 में भारत और श्रीलंका के बीच खेले गए चौथे मैच में श्रीलंकाई टीम ने 315 रन बनाकर भारत को जीत के लिए 316 रनों का लक्ष्य दिया था। भारतीय टीम की शुरूआत अच्छी नहीं रही थी और उन्होंने अपने दो विकेट( सचिन तेंदुलकर और वीरेन्द्र सहवाग) को सिर्फ 23 रनों के स्कोर पर खो दिया था। Also Read: गौतम गंभीर के कैच छोड़ने पर क्या रही ट्विटर प्रतिक्रिया]

इसके बाद गंभीर ने कोहली के साथ मिलकर पारी को आगे बढ़ाया और तीसरे विकेट के लिए 224 रनों की साझेदारी निभाई। गंभीर और कोहली दोनों ने इस मैच में शतकीय पारी खेली। कोहली 107 रन बनाकर आउट हुए तो गंभीर 150 रनों की पारी खेलने के बाद नाबाद लौटे। भारत ने यह मैच इन दोनों की शानदार पारियों की बदौलत 7 विकेट से जीत लिया। गंभीर को उनकी शानदार पारी के लिए मैन ऑफ द मैच चुना गया लेकिन उन्होंने खुद को इस पुरस्कार का सही हकदार नहीं बताते हुए मैन ऑफ द मैच का यह पुरस्कार विराट कोहली को दे दिया

गंभीर ने इस कदम से ये साबित किया कि वो वास्तव में कोहली का सम्मान करते हैं और उन्हें उच्च कोटि का बल्लेबाज मानते हैं। लेकिन सोशल मीडिया अक्सर 2013 की बहस को मुद्दा बनाकर अक्सर इन दोनों खिलाड़ियों के बीच संबंधों को खराब बताती है। लेकिन मौजूदा दौर में इन दोनों खिलाड़ियों के बीच खराब संबंध और अनबन जैसी कोई बात नहीं है।