महेंद्र सिंह धोनी ने इंग्लैंड के खिलाफ आखिरी बार कप्तानी की © Getty Images
महेंद्र सिंह धोनी ने इंग्लैंड के खिलाफ आखिरी बार कप्तानी की © Getty Images

शाहरुख खान की एक फिल्म थी ‘फैन’, फिल्म में दिखाया गया था कि एक फैन अपने हीरो के लिए क्या-क्या कर सकता है। ठीक वैसा ही नजारा देखने को तब मिला जब महेंद्र सिंह धोनी ब्रेबोर्न के स्टेडियम में पहुंचे। आमतौर पर शांत रहने वाला ब्रेबोर्न का स्टेडियन धोनी…धोनी की आवाज से गूंज रहा था। हर क्रिकेटप्रेमी अपने सबसे पसंदीदा खिलाड़ी को आखिरी बार कप्तानी करते देखने का कोई मौका नहीं छोड़ना चाहता था। हर कोई धोनी का ‘जबरा फैन’ नजर आ रहा था। नतीजतन, सारा स्टेडियम दर्शकों से लबालब भरा हुआ था। मौका था इंग्लैंड के खिलाफ भारत ‘ए’ का अभ्यास मैच। धोनी ने अपने करियर में आखिरी बार सिक्का उछाला लेकिन किस्मत के धनी धोनी आखिरी टॉस हार गए। मैच में इंग्लैंड ने पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया।

शिखर धवन और मनदीप सिंह ने टीम को सधी हुई शुरुआत दिलाई। लेकिन इसी बीच मनदीप सिंह आउट हो गए और भारत पहला झटका लग गया। इसके बाद बल्लेबाजी के लिए आए अंबाती रायडू ने धवन के साथ मिलकर पारी को आगे बढ़ाया और टीम को मजबूती की तरफ ले गए। इसी बीच धवन अपना अर्धशतक लगाकर आउट हो गए। धवन के आउट होने के बाद युवराज ने मोर्चा संभाला और तेज गति से रन बनाए। देखते ही देखते युवराज ने अपना अर्धशतक और रायडू ने अपना शतक पूरा कर लिया। लेकिन इसी बीच रायडू शतक लगाने के बाद रिटायर हर्ट हो गए और मैदान पर आए धोनी। ये भी पढ़ें: 41 से 50 ओवरों के बीच सबसे ज्यादा रन बनाने वाले 5 बल्लेबाज

धोनी-धोनी के नारे से गूंज उठा ब्रेबोर्न स्टेडियम: वैसे तो मैच शुरू होने के बाद ही धोनी-धोनी के नारे लगने शुरू हो गए थे। लेकिन मैच में एक क्षण ऐसा भी आया जब पूरा स्टेडियम ही धोनी के नारों में नहा गया। हर कोई धोनी-धोनी के नारे लगा रहा था। सब अपने हीरो के स्वागत में कोई कमी नहीं रखना चाहते थे। लिहाजा हर कोई अपने कदमों पर खड़े होकर धोनी का स्वागत कर रहा था। ऐसा लग रहा था जैसे मैदान पर मौजूद हर दर्शक अपनी आवाज से धोनी को छू लेना चाहता था। धोनी की हौसलाअफजाई के लिए हर कोई व्याकुल दिख रहा था।

धोनी की आतिशी बल्लेबाजी: बतौर कप्तान अपना आखिरी मैच खेल रहे महेंद्र सिंह धोनी दर्शकों के उत्साह के आगे और उग्र हो गए और आते ही अपने अंदाज में बल्लेबाजी करने लगे। धोनी ने मैदान पर आते ही आक्रामक अंदाज में बल्लेबाजी करनी शुरू कर दी। धोनी ने पहले युवराज के साथ मिलकर भारत के स्कोर को आगे बढ़ाया। दोनों ने मिलकर भारत की पारी को 250 तक पहुंचा दिया। लेकिन इसी बीच युवराज आउट हो गए। लेकिन धोनी का शानदार खेल जारी रहा और धोनी ने अंत में हार्दिक पंड्या के साथ मिलकर अपना अर्धशतक पूरा किया और भारत की पारी को 300 के पार पहुंचा दिया। धोनी की बेहतरीन बल्लेबाजी ने दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया था और हर कोई खुद को धोनी-धोनी कहने से नहीं रोक पा रहा था।

आखिरी ओवर में धोनी का धूम-धड़ाका: वैसे तो पूरे मैच में कई यादगार क्षण देखने को मिले। लेकिन मैच का आखिरी ओवर सबसे यादगार रहा। धोनी इस ओवर में बिल्कुल पुराने वाले दोनी नजर आ रहे थे। धोनी ने आखिरी ओवर में जमकर रन बनाए। आखिरी ओवर में धोनी ने पहली गेंद पर शानदार लगाया, दूसरी गेंद पर चौका जड़ दिया, तीसरी गेंद पर धोनी ने फिर से गेंद को बाउंड्री के बाहर भेज दिया, चौथी गेंद पर दौड़कर दो रन पूरे किए, पांचवीं गेंद पर धोनी ने फिर से गेंद को 6 रनों के लिए भेज दिया तो वहीं अंतिंम गेंद पर धोनी ने एक रन लिया। इसी के साथ आखिरी ओवर में धोनी ने कुल 23 रन जोड़े।  ये भी पढ़ें: विराट कोहली के बाद ये उपलब्धि हासिल करने वाले दूसरे खिलाड़ी बने केन विलियमसन

दर्शकों का अंदाज: एक स्टार अपने फैन्स की वजह से ही स्टार बनता है और बतौर कप्तान धोनी के आखिरी मैच में दर्शकों ने धोनी को हाथों-हाथ लिया। ब्रेबोर्न का स्टेडियम खचाखच भरा था और स्टैंड्स पर तिनके की भी जगह नहीं थी। हर कोई धोनी को आखिरी बार कप्तानी करते देखना चाहता था। मैच में एक क्षण के लिए भी धोनी-धोनी के नारे शांत नहीं हुए।

वहीं मैच में एक भावुक पल तब आया जब एक दर्शक खुद को रोक नहीं पाया और मैदान में घुस गया। मैदान में घुस आया दर्शक धोनी के पास गया, धोनी ने भी उसे निराश नहीं किया। दर्शक धोनी के सजदे में झुक गया था और इसी बीच सुरक्षाकर्मियों ने उसे पकड़कर मैदान से बाहर ले गए। लेकिन उस दर्शक ने दर्शा दिया कि धोनी भले ही कप्तानी छोड़ दिए हों लेकिन उनके प्रशंसक उन्हें दीवानों की तरह चाहते हैं।