Why MS Dhoni is so important for indian team in ICC World cup

भारतीय टीम को इंग्लैंड में होने वाले आईसीसी विश्व कप का प्रबल दावेदार माना जा रहा है लेकिन ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सीरीज हार से उसे झटका लगा है। भले ही कप्तान विराट कोहली इस हार से परेशान नहीं लेकिन सच है ऑस्ट्रेलिया ने टीम इंडिया को सावधान कर दिया है।

दिल्ली वनडे में जैसे टीम हारी ऐसे मौकों से पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी उसे कई बार निकाल चुके हैं। इसलिए धोनी को दिग्गज भारतीय टीम में विश्व कप के लिए इतना अहम मानते हैं। धोनी का धैर्य और उनका अनुभव टीम इंडिया को विश्व चैंपियन बना सकता है।

पढ़ें:- महेंद्र सिंह धोनी भारतीय टीम के आधे कप्तान : बिशन सिंह बेदी

धोनी टीम को मुश्किल से निकालने का हुनर जानते हैं,  वह मैच विनर हैं। रन का पीछा करते हुए टीम जब पिछड़ती नजर आती है, धोनी मैदान पर डटकर पारी संभालते हैं और साथी बल्लेबाजों से सही निर्देश देते हैं।

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ नाबाद 58 रन की पारी (2 मार्च 2019)

हालिया वनडे सीरीज में हैदराबाद में खेले गए मुकाबले में महेंद्र सिंह धोनी की पारी भला कौन भूल सकता है। भारत ने 99 रन पर चार विकेट गंवा दिए थे और 237 रन का लक्ष्य था। धोनी ने केदार जाधव के साथ पांचवें विकेट के लिए 141 रन की अटूट साझेदारी निभाई, भारत 6 विकेट से जीता। 72 गेंद खेलकर पूर्व कप्तान ने 59 रन की पारी खेली जिसमें 6 चौका और 1 छक्का शामिल था। जाधव ने 87 गेंद पर नाबाद 81 रन बनाए।

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ नाबाद 87 रन की पारी (18 जनवरी 2019)

114 गेंद पर धोनी की 87 रन की नाबाद पारी ने भारत को ऑस्ट्रेलिया दौरे पर वनडे सीरीज में जीत दिलाई थी। भारत 231 रन की पीछा करते हुए 59 रन पर दो विकेट खो चुका था, धोनी चौथे नंबर पर बल्लेबाजी करने उतरे। उन्होंने पहले कोहली के साथ 54 रन और फिर केदार जाधव के साथ 121 रन की अटूट साझेदारी निभाई। पारी के दौरान जाधव को धोनी कई बार समझाते नजर आए। यह उनका अनुभव ही था जिसने भारत को ना सिर्फ जीत दिलाई बल्कि दौरे पर बिना कोई सीरीज गंवाए लौटने वाली विदेशी टीम का रुतबा दिलाया। (पढ़ें:- वनडे में हार पर क्‍लार्क बोले, धोनी का अनुभव भारत के लिए है अहम)

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ नाबाद 55 रन की पारी (15 जनवरी 2019)

भारतीय टीम 299 रन का पीछा कर रही थी और 160 रन पर तीन विकेट खोने के बाद धोनी ने मैदान में कदम रखा। दूसरी छोर पर कप्तान विराट कोहली थे जिनके साथ उन्होंने 82 रन की साझेदारी निभाई। कोहली 104 रन बनाकर आउट हो गए लेकिन धोनी ने संयम बनाए रखा और दिनेश कार्तिक के साथ मैच खत्म कर 6 विकेट की जीत दिलाने के बाद ही मैदान से वापस लौटे। धोनी ने 54 गेंद पर 55 रन बनाए इसमें कोई चौका नहीं था पारी की आखिर में दो छक्के जरूर लगाए।

श्रीलंका के खिलाफ नाबाद 67 रन की पारी (27 अगस्त 2017)

भारतीय टीम श्रीलंका के सामने मुश्किल में थी, 218 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए महज 61 रन पर 4 विकेट गिर चुके थे। महेंद्र सिंह धोनी मैदान पर उतरे 86 गेंद पर 67 रन की नाबाद पारी खेली और भारत की जीत को आसान बनाया। धोनी ने विकेट गिरने के सिलसिले को रोका रोहित शर्मा के साथ 157 रन की अटूट साझेदारी निभाई और भारत 6 विकेट से जीता।

श्रीलंका के खिलाफ नाबाद 45 रन की पारी (24 अगस्त 2017)

भारत के सामने 231 रन का संशोधित लक्ष्य था और 131 रन पर 7 विकेट गिर गए थे। धोनी ने 68 गेंद पर नाबाद 45 रन बनाए जिसमें सिर्फ 1 चौका लगाया और टीम को जीत तक पहुंचाया। अकिला धनंजय की शानदार गेंदबाजी के आगे रोहित शर्मा, केदार जाधव, विराट कोहली, केएल राहुल और हार्दिक पांड्या अपना विकेट गंवा चुके थे। 131 रन पर अक्षर पटेल के रुप में सातवां विकेट गिरा था। धोनी ने भुवनेश्वर कुमार के साथ मिलकर 100 रन की अटूट साझेदारी कर भारत को 3 विकेट से जीत दिलाई। धोनी का साथ ही था कि भुवनेश्वर ने अर्धशतकीय पारी खेली।