World Cup winner Gautam Gambhir announces ‘shock’ retirement
Gautam Gambhir

भारत के लिए डेढ दशक तक क्रिकेट खेलने वाले पूर्व ओपनर गौतम गंभीर ने मंगलवार को संन्यास लेने का फैसला ले लिया। भारत के लिए दो विश्व कप खिताब जीतने वाले गौतम की फाइनल में खेली गई गंभीर पारी ने टीम के विश्व विजेता बनने का राह तैयार की।

भारतीय टीम ने 2007 में अपना दूसरा विश्व कप खिताब जीता। टी20 क्रिकेट के पहले विश्व कप का विजेता बनने का गौरव भारतीय टीम को हासिल हुआ। जबकि वनडे क्रिकेट की दूसरा विश्व कप खिताब भारत ने साल 2011 में जीता। इन दोनों जीत में गौतम गंभीर के बल्ले से बड़ी पारी निकली थी।

2007 फाइनल में खेली 75 रन की पारी

पाकिस्तान के खिलाफ 2007 टी20 विश्व कप फाइनल में भारतीय टीम के लिए चैंपियन ओपनर गौतम गंभीर ने 75 रन की मैच विनिंग पारी खेली थी। गंभीर ने 54 गेंद पर 8 चौके और 2 छक्के जमाते हुए 75 रन की कभी ना भूलने वाली पारी खेली थी।

गंभीर की पारी के दम पर भी भारत ने पाकिस्तान के सामने 157 रन का स्कोर खड़ा किया था। इस मैच में भारत आखिरी ओवर में 5 रन की रोमांचक जीत दर्ज कर पहला टी20 विश्व चैंपियन बनने का कारनामा किया था।

2011 फाइनल में खेली 97 रन की पारी

भारत ने 28 साल बाद वनडे के विश्व कप का खिताब उठाया और इसमें गौतम गंभीर की मैच जिताउ पारी अहम थी। श्रीलंका से मिले 275 रन के लक्ष्य को महेंद्र सिंह धोनी ने छक्का लगाकर हासिल कर यादगार बनाया लेकिन इस जीत तक पहुंचाने के लिए गंभीर ने 97 रन की पारी खेली।

गंभीर ने विश्व कप फाइनल जैसे बड़े मुकाबले में 122 गेंद पर 9 चौके की मदद से 97 रन बनाए। वीरेंदर सहवाग, सचिन तेंदुलकर और विराट कोहली के आउट होने के बाद भी गंभीर ने एक छोर संभाले रखा और 223 रन तक पहुंचाकर मैदान छोड़ा। जीत के लिए महज 52 रन की जरूरत थी जिसे युवराज सिंह और कप्तान महेंद्र सिंह ने हासिल कर लिया।