चेतेश्वर पुजारा ने रणजी ट्रॉफी में 3 तिहरे शतक लगाए हैं © AFP
चेतेश्वर पुजारा ने रणजी ट्रॉफी में 3 तिहरे शतक लगाए हैं © AFP

क्रिकेट के मैदान में बल्लेबाज शतक लगाते हैं, दोहरा शतक लगाते हैं लेकिन तिहरा शतक इतनी आसानी से नहीं बनते। तिहरा शतक लगाने के लिए एक बल्लेबाज को बेहद ही संयमित बल्लेबाजी करनी होती है, तब जाकर बल्लेबाज तिहरे शतक के जादुई आंकड़े तक पहुंचता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि भारतीय बल्लेबाजों के लिए तिहरा शतक लगाना बेहद ही आसान है। भारतीय फर्स्ट क्लास क्रिकेट के रिकॉर्ड को देखें तो आप कुछ ऐसा ही पाएंगे।

दरअसल पिछले 10 सालों में भारतीय फर्स्ट क्लास क्रिकेट में तिहरे शतकों की बाढ़ सी आ गई है। 2007-07 से लेकर आजतक भारतीय फर्स्ट क्लास क्रिकेट में 27 तिहरे शतक लग चुके हैं। आपको ये जानकर हैरानी होगी कि 2006 से पहले पिछले 100 सालों में भारतीय घरेलू क्रिकेट में सिर्फ 22 तिहरे शतक ही लगे थे। पिछले 10 सालों की बात करें तो रवींद्र जडेजा, चेतेश्वर पुजारा 3-3 तिहरे शतक जड़ चुके हैं। करुण नायर ने दो तिहरे शतक जमाए हैं। रणजी ट्रॉफी के मौजूदा सीजन में भी हिमाचल के बल्लेबाज प्रशांत चोपड़ा और आंध्रा के कप्तान हनुमा विहारी ने भी तिहरा शतक जड़ दिया है।

पाकिस्तान को टेस्ट सीरीज में हराने के लिए श्रीलंका ने लिया 'काले जादू' का सहारा?
पाकिस्तान को टेस्ट सीरीज में हराने के लिए श्रीलंका ने लिया 'काले जादू' का सहारा?

वैसे आपको ये जानकर हैरानी होगी कि पिछले 10 सालों में पूरी दुनिया में कुल 58 तिहरे शतक लगे हैं। जिसमें से 27 तिहरे शतक भारत में लगे हैं, जबकि पूरी दुनिया में तिहरे शतकों की संख्या 31 है। आंकड़ों से साफ है कि भारतीय घरेलू क्रिकेट में बल्लेबाज बड़ी तेजी से तरक्की कर रहे हैं, वैसे इसके पीछे पाटा पिचों का भी बेहद अहम रोल है।