पूर्व टेस्ट बल्लेबाज आकाश चोपड़ा (Aakash Chopra) का मानना है कि टेस्ट क्रिकेट की खूबसूरती को बचाए रखने के लिए आईसीसी को इस नियम पर भी विचार करना चाहिए कि किसी भी टेस्ट मैच में 450 ओवर का खेल तो अनिवार्य होना ही चाहिए. चोपड़ा बारिश से प्रभावित होने के कारण मैचों को होने वाले नुकसान की भरपाई के लिए यह बात बोल रहे थे. चोपड़ा इन दिनों भारत और न्यूजीलैंड (IND vs NZ) के बीच खेली जा रही वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल (World Test Championshop Final) में स्टार स्पोर्ट्स के कॉमेंट्री पैनल का हिस्सा हैं. इस दौरान मैच से पहले एक्सपर्ट के शो में उन्होंने यह बात कही.

भारत और न्यूजीलैंड के बीच पहली बार खेली जा रही वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल मैच बारिश से प्रभावित है. यहां बारिश को ध्यान में रखकर छठा दिन रिजर्व भी रखा गया था. लेकिन बारिश के कारण यहां पहले और चौथे दिन का खेल पूरी तरह बारिश से धुल गया. इसके अलावा दूसरे और तीसरे दिन के खेल को भी बारिश और खराब रोशनी ने प्रभावित किया.

चोपड़ा ने कहा यह फैन्स और टीमों सभी के लिए परेशान करने वाली चीजें हैं. ऐसे में आईसीसी को चाहिए कि इस बड़े स्तर पर, जब आप टेस्ट चैंपियनशिप के विजेता को देखना चाहते हैं और दो टीमें जब दो साल की कड़ी मेहनत के बाद यहां तक पहुंची हैं. तब उस स्थिति में इस टेस्ट मैच के लिए 450 ओवर का खेल अनिवार्य करना चाहिए. चोपड़ा ने यह बात इस टेस्ट मैच के 5वें दिन का खेल शुरू होने से पहले तब कही, जब बारिश के कारण पहले सत्र का खेल भी देरी से शुरू हुआ.

43 वर्षीय इस पूर्व बल्लेबाज ने कहा, ‘मैं यह नहीं कह रहा कि यह टाइमलेस टेस्ट हो. लेकिन इस दौरान 450 ओवरों का खेल अनिवार्य होना ही चाहिए, चाहे बारिश जैसी रुकावट के कारण इसमें 6 दिन लगें या फिर 7 दिन.’