बीसीसीआई (BCCI) ने शनिवार को टेस्ट कप्तान पद से इस्तीफा देने वाले भारतीय दिग्गज विराट कोहली (Virat Kohli) की सराहना करते हुए उन्हें धन्यवाद दिया है। रविवार को बीसीसीआई ने आधिकारिक बयान जारी किया जिसमें बोर्ड अध्यक्ष सौरव गांगुली (Sourav Ganguly), सेक्रेटरी जय शाह (Jay Shah), उपाध्यक्ष राजीव शुक्ला (Rajeev Shukla) और कोषाध्यक्ष अरुण धूमल (Arun Dhumal) ने कोहली को भारतीय क्रिकेट टीम में उनके योगदान के लिए शुक्रिया कहा।

पूर्व भारतीय कप्तान गांगुली ने कहा, “मैं व्यक्तिगत रूप से विराट को भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान के रूप में उनके अपार योगदान के लिए धन्यवाद देता हूं। उनके नेतृत्व में भारतीय क्रिकेट टीम ने खेल के सभी फॉर्मेट में तेजी से प्रगति की है। उनका फैसला निजी है और बीसीसीआई इसका बहुत सम्मान करता है। वो इस टीम का एक बहुत ही महत्वपूर्ण सदस्य बना रहेगा और एक नए कप्तान के तहत बल्ले से अपने योगदान से इस टीम को नई ऊंचाइयों पर ले जाएगा। हर अच्छी चीज का अंत होता है और ये बहुत अच्छा रहा है।”

मानद सचिव शाह, “विराट कोहली भारतीय क्रिकेट टीम का नेतृत्व करने वाले सबसे बेहतरीन कप्तानों में से एक रहे हैं। एक नेता के रूप में उनका रिकॉर्ड और टीम के प्रति योगदान किसी से कम नहीं है। भारत को 40 टेस्ट जीत में नेतृत्व करना इस बात का प्रमाण है कि उसने टीम का नेतृत्व पूरी तरह से किया। उन्होंने ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड, वेस्टइंडीज, श्रीलंका और दक्षिण अफ्रीका सहित भारत और विदेशों में कुछ बेहतरीन टेस्ट मैच जीत के दौरान टीम का नेतृत्व किया है और उनके प्रयास देश का प्रतिनिधित्व करने की इच्छा रखने वाले साथी और आने वाले क्रिकेटरों को प्रेरित करेंगे। हम विराट के उज्जवल भविष्य की कामना करते हैं और आशा करते हैं कि वो भारतीय टीम के लिए मैदान पर यादगार योगदान देना जारी रखेंगे।”

बीसीसीआई के उपाध्यक्ष शुक्ला ने कहा, “विराट जैसा क्रिकेटर एक पीढ़ी में एक बार आता है और भारतीय क्रिकेट भाग्यशाली है कि वो एक नेता के रूप में टीम की सेवा करता है। उन्होंने जोश और आक्रामकता के साथ टीम की कप्तानी की और देश और विदेश में भारत की कई यादगार जीत में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। हम उनके आगे के करियर के लिए शुभकामनाएं देते हैं।”

मानद कोषाध्यक्ष के अरुण सिंह धूमल, “अपने कभी ना हारने वाले रवैये के साथ, विराट ने नेता के रूप में अपना सब कुछ दे दिया और एक कप्तान के रूप में उनका शानदार रिकॉर्ड इसका गवाह है। जिस क्षण से वो भारत के टेस्ट कप्तान बने, उन्होंने सुनिश्चित किया कि भारत हमेशा उत्कृष्टता के लिए प्रयास करे और विश्व क्रिकेट पर हावी रहे। जबकि विराट – बल्लेबाज – एक पावरहाउस बना रहा, विराट – कप्तान – ने कोई कसर नहीं छोड़ी, जिससे टीम को दुनिया भर में कुछ बेहतरीन प्रदर्शन करने में मदद मिली। मैं उनके उज्जवल भविष्य की कामना करता हूं।”

बीसीसीआई के संयुक्त सचिव जयेश जॉर्ज ने कहा, “विराट क्रिकेट के इतिहास में सबसे बेहतरीन क्रिकेटरों और कप्तानों में से एक के रूप में याद किए जाएंगे, जिसने खेल को गौरवान्वित किया है। उन्होंने धैर्य, दृढ़ संकल्प के साथ टीम की कप्तानी की और एक क्रिकेट टीम के रूप में भारत के भविष्य को आकार देने में एक बड़ी भूमिका निभाई। हमें यकीन है कि विराट एक खिलाड़ी के रूप में और टीम के सबसे अनुभवी सदस्यों में से एक के रूप में बड़ी भूमिका निभाते रहेंगे।”

स्टार बल्लेबाज ने तत्काल प्रभाव से भारत के टेस्ट कप्तान के रूप में पद छोड़ दिया, जिसकी घोषणा उन्होंने ट्वीट के जरिए की। कोहली को 2015 में महेंद्र सिंह धोनी की जगह टेस्ट कप्तानी सौंपी गई थी। उनके नेतृत्व में टीम ने 68 मैचों में 40 मैच जीते हैं।

उन्होंने ऑस्ट्रेलिया में एक ऐतिहासिक टेस्ट सीरीज जीतने में टीम की मदद की और उन्हें आईसीसी टेस्ट रैंकिंग के शीर्ष पर ले गए। उनके नेतृत्व में भारत आईसीसी विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में भी पहुंचा था। बीसीसीआई ने कोहली को उनके योगदान के लिए धन्यवाद देने के लिए ट्विटर का सहारा लिया।