A legendary cricketer like Dhoni, he knows when to retire: MSK Prasad
MS Dhoni and MSK Prasad

रविवार को मुंबई में वेस्टइंडीज दौरे पर जाने वाली टी20, वनडे और टेस्ट टीम का चयन किया गया। महेंद्र सिंह धोनी निजी वजह से इस दौरे पर नहीं जा रहे हैं उनकी जगह रिषभ पंत को तीनों फॉर्मेट में विकेटकीपिंग का जिम्मा सौंपा गया है।

मुख्य चयनकर्ता एमएसके प्रसाद ने यह साफ किया कि संन्यास लेने का फैसला पूरी तरह से धोनी के अधिकार क्षेत्र में आता है। आने वाले समय में युवा पंत को विकेटकीपर के तौर पर सभी प्रारूपों में भारत के पहले विकल्प के रूप में ‘तैयार’ किया जायेगा।

पढ़ें:- रिषभ पंत ही हैं दिग्गज विकेटकीपर महेंद्र सिंह धोनी के उत्तराधिकारी !

धोनी ने इतनी अटकलबाजियों के बीच अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास की घोषणा नहीं की लेकिन उन्होंने अगले दो महीनों के लिए वह टीम के साथ नहीं जुड़ पाएंगे यह साफ किया क्योंकि वह प्रादेशिक सेना में अपनी रेजीमेंट की सेवा करना चाहते हैं।

प्रसाद ने प्रेस कांफ्रेंस में कहा, ‘‘संन्यास लेना पूरी तरह से निजी फैसला है। धोनी जैसे महान क्रिकेटर जानते हैं कि कब संन्यास लिया जाए। भविष्य में क्या किया जायेगा, यह चयन समिति के हाथों में है। मुझे नहीं लगता कि हमें इस पर ज्यादा कुछ चर्चा करने की जरूरत है। पहली बात, वह उपलब्ध नहीं है। दूसरी, हमने पहले ही युवाओं को तैयार करना शुरू कर दिया था। ’’

पढ़ें:- वेस्टइंडीज दौरा: राहुल चाहर-सैनी को मौका, पांडे की वापसी

पूर्व भारतीय टेस्ट विकेटकीपर चाहते हैं कि आगामी दिनों में पंत को धोनी के नक्शेकदमों पर चलने के लिए ज्यादा से ज्यादा मौके दिये जाएं।
प्रसाद ने कहा, ‘‘धोनी सीरीज के लिए उपलब्ध नहीं हैं। उन्होंने अपनी यह विचार व्यक्त कर दी है। यह कहने का मतलब है कि हमने विश्व कप तक एक निश्चित खाका तैयार किया था और योजनाएं बनाई थीं। विश्व कप के बाद हमने कुछ और रणनीतियां बनाई हैं और हमने रिषभ पंत को ज्यादा से ज्यादा मौके देने के बारे में सोचा था कि देखेंगे कि वह कैसे तैयार होता है। इस समय हमारी योजना यही है और हमने इसके बारे में उससे (धोनी से) भी बात की थी।’’

पंत पहले ही टेस्ट में पहली पंसद हैं और अब धोनी के भविष्य को लेकर अनिश्चितता बन गई है तो वह सभी तीनों प्रारूपों में पहली पसंद बन गया है। इक्कीस साल का यह खिलाड़ी काफी प्रतिभावान है लेकिन विश्व कप सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड से मिली हार के अलावा कई महत्वपूर्ण क्षणों में उसके शॉट चयन पर सवाल उठाए गए।

हालांकि प्रसाद ने न्यूजीलैंड के खिलाफ खेली गई 32 रन की उनकी पारी की प्रशंसा की जिसमें 240 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए भारतीय टीम ने पांच रन पर तीन विकेट खो दिये थे। प्रसाद ने कहा, ‘‘वह बहुत बढ़िया खेला। विशेषकर उस परिस्थिति में, उसने काफी अच्छी बल्लेबाजी की।’’