अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) द्वारा आत्‍महत्‍या किए जाने के बाद से ही बॉलीवुड में नेपाटीजम (Nepotism) यानी भाई-भतीजावाद का मुद्दा गर्माया हुआ है. इसी बीच कुछ फैन्‍स ने भारतीय क्रिकेट (Nepotism in Indian Cricket) में भी भाई-भतीजावाद के होने की बात कही. ऐसे लोगों को पूर्व सलामी बल्‍लेबाज आकाश चोपड़ा (Aakash Chopra) ने एक वीडियो के माध्‍यम से जवाब दिया.

आकश चोपड़ा ने कहा, “आप सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar)  के बीच अर्जुन के बारे में ये बात कह सकते हैं क्‍योंकि वो तेंदुलकर का बेटा है. उसे प्‍लेट पर सजा कर अबतक कुछ भी नहीं मिला है. उसे भारतीय टीम में जगह नहीं मिली है. इस तरह के चयन भारत की अंडर-19 टीम में भी नहीं हुए हैं. जब भी चयन की प्रक्रिया होती है वो पूरी तरह से परफॉर्मेंस पर ही आधारित रहती है.”

अर्जुन भारतीय टीम के नेट बॉलर रह चुके हैं. हालांकि उन्‍हें अबतक रणजी ट्रीम (Ranji Trophy) में खेलने का मौका भी नहीं मिला है. वो केवल मुंबई के जूनियर क्रिकेट में खेलते हुए नजर आए हैं.

आकाश चोपड़ा (Aakash Chopra) ने कहा, “इसी तरह से दिग्‍गज बल्‍लेबाज सुनील गावस्‍कर (Sunil Gavaskar) के बेटे रोहन गावस्‍कर भी कभी भारतीय टीम में नहीं खेल पाए थे. अगर आप बड़ी तस्‍वीर को देखें तो सुनील गावस्‍कर का बेटा होने के नाते रोहन काफी क्रिकेट खेल सकते थे, लेकिन वो नहीं खेल पाए. इतना बड़ा सरनेम साथ होने के बावजूद रोहन ने कभी मुंबई की रणजी टीम में भी जगह नहीं गनाई.”