Aaron Finch: We don’t have any extra motivation because of redemption
एरोन फिंच (IANS)

इंग्लैंड के खिलाफ विश्व कप 2019 सेमीफाइनल मैच से पहले ऑस्ट्रेलिया टीम के कप्तान एरोन फिंच ने कहा है कि उनकी टीम किसी अतिरिक्त दबाव के साथ इस मैच में नहीं उतरेगी। मैच के पहले प्रेस कॉन्फ्रेंस में ऑस्ट्रेलियाई कप्तान ने कहा, “कुछ साबित करने के लिए हमारे पास कोई अतिरिक्त प्रेरणा नहीं है।”

दरअसल फिंच से पूछे गए सवाल का इशारा सितंबर 2018 में हुए बॉल टैपरिंग विवाद की ओर था। दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ न्यूलैंड्स टेस्ट में गेंद से छेड़छाड़ मामले में तत्कालीन कप्तान स्टीव स्मिथ और उप कप्तान डेविड वार्नर पर एक साल का बैन लगाया गया था। गेंद पर सैंडपेपर लगाते हुए कैमरे पर पकड़े गए बल्लेबाज कैमरून बैनक्रॉफ्ट को भी 9 महीनों तक अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से दूर रहना पड़ा था।

स्मिथ और वार्नर के बैन के दौरान ऑस्ट्रेलियाई टीम खराब फॉर्म से गुजरी और कई अहम सीरीज हारी लेकिन विश्व कप के शुरू होते ही दोनों दिग्गजों ने टीम मे वापसी की और लगातार अच्छा प्रदर्शन करते हुए ऑस्ट्रेलिया सेमीफाइनल में पहुंच गई। हालांकि इस दौरान भी स्मिथ और वार्नर को इंग्लैंड के दर्शकों की हूटिंग और खराब बर्ताव का सामना करना पड़ा।

ICC विश्व कप: इंग्लैंड-ऑस्ट्रेलिया सेमीफाइनल मैच की लाइव स्ट्रीमिंग

कप्तान फिंच ने इस बारे में कहा, “हम अपने देश का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं और वो काफी है। लेकिन मेरा मानना है कि जिस तरह का खेल हमने दिखाया है और जिस भावना से हम मैच खेले हैं वो अपने आप में संपूर्ण है। जहां तक बात कुछ साबित करने की है तो मुझे लगता है कि ये खिलाड़ियों पर निर्भर करता है कि वो टूर्नामेंट खत्म होने के बाद अपनी कहानी कैसे सुनाते हैं।”

सेमीफाइनल मुकाबले में विश्व कप में ऑस्ट्रेलिया के लीडिंग रन स्कोरर वार्नर पर काफी कुछ निर्भर करेगा। इस शीर्ष क्रम बल्लेबाज के बारे में फिंच ने कहा, “हमें सेमीफाइनल में पहुंचाने में उसका बड़ा योगदान रहा है। जिस तरह की पारियों उसने खेलीं, खासकर की टूर्नामेंट की शुरुआत में जब वो वापसी कर रहा था, अपनी गति फिर से हासिल करने की कोशिश कर रहा था। लेकिन पिछले कुछ मैचों में विश्व स्तरीय गेंदबाजों अटैक के सामने वो खूबसूरती से खेला।”

पढ़ें:- NZ से 18 रन से हारकर भारत विश्‍व कप से हुआ बाहर

फिंच ने आगे कहा, “ये देखना अच्छा है कि वो कितना प्रभावशाली है। हम सभी जानते हैं कि वो एक विश्व स्तरीय खिलाड़ी है, इसलिए ये निश्चित रूप से आश्चर्य की बात नहीं है। उसने किसी की उम्मीदों को पार नहीं किया है, लेकिन जिस तरह से वो खेला है, जो परिपक्वता दिखआई है और बड़े शतक लगाए हैं, वो काफी अहम है।”