AB de Villiers: South Africa has a chance but not the favorites at World Cup
फाफ डु प्लेसिस, एबी डिविलियर्स (AFP)

विश्व कप से पहले अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने वाले दक्षिण अफ्रीकी दिग्गज एबी डिविलियर्स ने कई बार अपने बयान में ये साफ किया है कि वो एक आईसीसी ट्रॉफी से अपने करियर को परिभाषित नहीं करना चाहते हैं। हालांकि बतौर फैन और नागरिक वो चाहते हैं कि उनकी राष्ट्रीय टीम विश्व कप खिताब जीते। डिविलियर्स ने माना कि इंग्लैंड में होने वाले टूर्नामेंट में दक्षिण अफ्रीका के पास जीतने का मौका है लेकिन प्रोटियाज टीम विश्व कप की फेवरेट टीम नहीं है।

ये भी पढ़ें: अगर विराट कोहली का विश्व कप अच्छा रहा तो भारत जीतेगा

स्पोस्ट्स 24 को दिए इंटरव्यू में पूर्व क्रिकेटर ने कहा, “मेरा मानना है कि दक्षिण अफ्रीका के पास इस विश्व कप में एक मौका है, जैसा कि इससे पहले के किसी भी विश्व कप टूर्नामेंट में था क्योंकि हम एक विश्व स्तरीय टीम हैं, जिसमें बहुत सारे मैच विनर खिलाड़ी हैं। प्रोटियाज निश्चित तौर पर दौड़ में हैं, लेकिन मैं ये नहीं कहूंगा कि वो फेवरेट हैं। भारत और इंग्लैंड मजबूत दिख रहे हैं, ऑस्ट्रेलिया ने पांच विश्व कप जीते हैं और पाकिस्तान ने दो साल पहले यूके में चैंपियंस ट्रॉफी जीती है। ये चार टीमें शायद फेवरेट हैं।”

डिविलियर्स ने आगे कहा, “लेकिन जिस तरह से प्रोटियाज टीम 50 ओवर के फॉर्मेट में खेल रही है वो उत्साह बढ़ाने वाला है। दक्षिण अफ्रीका के कुछ बल्लेबाज और गेंदबाज विश्व रैंकिंग के शीर्ष 10 में मौजूद हैं, इसलिए निश्चित रूप से हमारे पास एक मौका है। हालाकि, ये कहना कि प्रोटियाज फेवरेट हैं, मुश्किल होगा।”

ये भी पढ़ें: ‘मजबूत मानसिकता की वजह से दुनिया के सर्वश्रेष्ठ वनडे बल्लेबाज हैं विराट कोहली’

प्रोटियाज टीम मई में होने वाले विश्व कप टूर्नामेंट में फाफ डु प्लेसिस की अगुवाई में मुकाबला करेगी, जिन्हें डिविलियर्स ने दक्षिण अफ्रीका क्रिकेट के सर्वश्रेष्ठ कप्तानों में से एक माना है। अपने पुराने साथी खिलाड़ी के बारे में बात करते हुए डिविलियर्स ने कहा, “पिछले कुछ सालों में उसने जिस तरह का प्रदर्शन किया है, मुझे उस पर गर्व है। वो एक शानदार खिलाड़ी है और महान कप्तान भी है। मुझे विश्वास है कि फाफ सर्वश्रेष्ठ दक्षिण अफ्रीकी कप्तानों में से एक के रूप में गिना जाएगा। मैं उनकी तुलना पिछले कप्तानों से नहीं कर सकता क्योंकि वो उन सभी कप्तानों से अलग है, जिनके साथ मुझे खेलने का मौका मिला।”