कर्नाटक के गेंदबाज अभिमन्यु मिथुन (Abhimanyu Mithun) ने हरियाणा के खिलाफ सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी सेमीफाइनल मैच में हैट्रिक लेकर भारतीय क्रिकेट के इतिहास में शानदार रिकॉर्ड दर्ज किया है। मिथुन पहले ऐसे गेंदबाज हैं जिन्होंने भारतीय घरेलू क्रिकेट के तीन बड़े टूर्नामेंट रणजी ट्रॉफी, विजय हजारे ट्रॉफी और सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी में हैट्रिक ली है।

इस तेज गेंदबाज ने साल 2009 की रणजी ट्रॉफी में उत्तर प्रदेश के खिलाफ मैच में हैट्रिक दर्ज की थी। जिसके बाद इस साल खेले गए विजय हजारे टूर्नामेंट में उन्होंने तमिलनाडु के खिलाफ मैच में हैट्रिक ली।

एक ओवर में लिए पांच विकेट

सूरत के लालाभाई कॉन्ट्रेक्टर स्टेडियम में खेले जा रहे सेमीफाइनल मैच में मिथुन ने ना केवल हैट्रिक दर्ज की बल्कि एक ओवर में पांच विकेट लेकर शानदार कीर्तिमान हासिल किया। किसी भारतीय गेंदबाज ने टी20 में पहली बार ये कारनामा किया है। मिथुन से पहले बांग्लादेश के अल अमीन होसेन ने 2013 में यूसीबी-बीसीबी इलेवन बनाम अबहानी लिमिटेड टी20 मैच में एक ओवर में पांच विकेट लिए थे।

हैमिल्टन टेस्ट के दौरान चोटिल हुए बेन स्टोक्स, गेंदबाजी करने पर संदेह

हरियाणा की पारी के दौरान 20वां ओवर कराने आए मिथुन ने पहली ही गेंद पर अर्धशतक बना चुके हिमांशु राणा (61) को मयंक अग्रवाल के हाथों कैच आउट कराया। अगली गेंद पर उनके साथ राहुल तेवतिया (32) को भी मिथुन ने करुण नायर के हाथों कैच आउट कराया। तीसरी गेंद पर नए बल्लेबाज सुमित कुमार को शून्य पर आउट कर मिथुन ने हैट्रिक दर्ज की।

लेकिन वो यहीं पर नहीं रुके, चौथी गेंद पर मिथुन ने अमित मिश्रा को अपना चौथा शिकार बनाया। अगली गेंद वाइड रही, जिसके बाद पांचवीं गेंद पर एक रन आया। ओवर की आखिरी गेंद पर स्पिनर जयंत यादव को आउट कर मिथुन ने पांचवां विकेट हासिल किया।

आईपीएल नीलामी में इन 3 भारतीय खिलाड़ियों पर फ्रेंचाइजी पहली बार लगा सकती हैं दांव

सीनियर गेंदबाज ने अपने चार ओवर के स्पेल में 39 रन देकर पांच विकेट लिए। गौरतलब है कि 20वें ओवर से पहले मिथुन के खाते में एक भी सफलता नहीं थी और अपने आखिरी ओवर में पांच विकेट लेकर उन्होंने हरियाणा की पारी को 194 रन पर रोका।