according to former indian cricketer sanjay manjrekar it is challenging for fast bowler deepak chahar to make a place in the world cup squad

मुंबई:  पूर्व भारतीय क्रिकेटर और अब कमेंटेटर संजय मांजरेकर का  मानना है कि, जिम्बाब्वे के खिलाफ तीन मैचों की वनडे सीरीज आगामी टी20 विश्व कप में चयन के लिए तेज गेंदबाज दीपक चाहर के सामने कड़ी परीक्षा के समान होगी। चाहर चोटों के कारण पिछले फरवरी से ही क्रिकेट एक्शन से बाहर चल रहे हैं, और गुरूवार को इस सीरीज के हरारे में हो रहे पहले मैच से वापसी कर रहे हैं। वह इस समय 27 अगस्त से यूएई में होने वाले एशिया कप के लिए वैकल्पिक खिलाड़ियों में शामिल हैं।

मांजरेकर ने कहा, ‘यह समय फिटनेस के चलते दीपक चाहर की कड़ी परीक्षा लेगा और यदि वह 50 ओवर सीरीज में जबरदस्त प्रदर्शन करते है जैसा वह वर्षों से करते आये हैं जब आप उन्हें टी 20 इंटरनेशनल क्रिकेट में देखते हैं।’

स्पोर्ट्स 18 के ‘स्पोर्ट्स ओवर द टॉप’ कार्यक्रम में मांजरेकर ने कहा, ‘मेरा मतलब है कि उनके पास अद्भुत नंबर हैं। यदि आप टी20 इंटरनेशनल क्रिकेट को याद करें तो वह आज के भुवनेश्वर कुमार हैं। भुवनेश्वर कुमार का युवा रूप, जो गेंद को दोनों तरफ स्विंग करा सकता है।’

मांजरेकर का ऐसा मानना है कि टी20 विश्व कप में चाहर का चयन केवल तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार की मौजूदगी से ही रुक सकता है। भुवनेश्वर ने 29 टी20 मैचों में 32 विकेट हासिल किये हैं और उनका इकोनॉमी रेट 6.73 ही रहा है। इनमें से 16 विकेट पॉवरप्ले में आये हैं। यही वह पक्ष है जहां चाहर खेल के सबसे छोटे फॉर्मेट में सबसे ज्यादा प्रभावशाली नजर आते हैं।

उन्होंने कहा, ‘डेथ ओवर में गेंदबाजी करने में वह उतने निरंतर नहीं हैं लेकिन गेंदबाजी का यह ऐसा पहलू है जिसमें वह बेहतर से बेहतर होते जा रहे हैं। टी20 विश्व कप की प्लेइंग एकादश में उतरने से दीपक चाहर को केवल भुवनेश्वर कुमार की मौजूदगी ही रोक सकती है, क्योंकि वह गेंदबाजी में भुवनेश्वर जैसे ही हैं।’

मांजरेकर ने साथ ही कहा, ‘वे अन्य तेज गेंदबाजों की तलाश कर सकते हैं लेकिन दीपक चाहर ऐसे खिलाड़ी हैं जिन्हें उन्हें ध्यान में रखना चाहिए।’

एजेंसी -आईएएनएस