बॉलीवुड अभिनेता सैफ अली खान (Saif Ali Khan) ने बताया है कि इंग्लैंड के पूर्व कप्तान जैफ्री बॉयकॉट (Geoff Boycott)

की एक टिप्पणी ने उनके पिता व भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान मंसूर अली खान (Saif Ali Khan) पटौदी को नाराज कर दिया था।

सैफ ने कहा, “बॉयकाट जिन्हें मैं काफी मानता था, उन्होंने एक दिन मुझे काफी गुस्सा दिला दिया। उन्होंने मुझसे कहा, मैंने तुम्हारे पिता के बारे में सुना है, एक आंख से टेस्ट क्रिकेट खेलना मुमकिन नहीं है।”

सैफ ने स्पोर्ट्सकीड़ा से बात करते हुए कहा, “मैंने उनसे पूछा कि क्या आपको लगता है कि मेरे पिता झूठ बोल रहे हैं तो उन्होंने कहा हां मुझे लगता है कि वह कहानी बना रहे हैं।”

“मैंने अपने पिता से यह बात कही और वह काफी गुस्सा हो गए। उन्होंने मुझसे कहा कि मैं दो आंखों से खेलता था तब बहुत अच्छा खेलता था और एक आंख से खेलता हूं तो अच्छा खेलता हूं। मैंने अपने पिता से सिर्फ यही एक घमंड वाली बात सुनी है।”

मंसूर अली खान पटौदी को भारत के महान क्रिकेट कप्तानों में गिना जाता है। उन्होंने 21 साल की उम्र में कप्तानी संभाली थी। कार दुर्घटना में वह चोटिल हो गए थे और उनकी दाई आंख में चोट आई थी जिससे दिखना बंद हो गया था। उन्होंने देश के लिए 46 टेस्ट मैच खेले जिसमें से 40 में टीम की कप्तानी की। अपनी कप्तानी में वह नौ टेस्ट मैच जीतने में सफल रहे।

सैफ ने कहा, “अगर वह टूर नहीं करना चाहते थे तो वह कह देते थे कि वह उपलब्ध नहीं हैं। वह कहते थे कि यह खेल है और उनकी 60 के दशक में खेल से दिलचस्पी जा रही है क्योंकि उन्हें लगता था कि बहुत अधिक क्रिकेट खेली जा रही है।”