अफगानिस्तान की टीम © Getty Images
अफगानिस्तान की टीम © Getty Images

साल 2017 के जून महीने में ही टेस्ट टीम का दर्जा पाने वाले अफगानिस्तान के लिए एक बहुत ही अच्छी खबर सामने आई है। बीसीसीआई ने सोमवार को ऐलान किया कि अफगानिस्तान अपने क्रिकेट इतिहास का टेस्ट टीम इंडिया के खिलाफ खेलेगा और ये मुकाबला भारतीय सरजमीं पर ही होगा। बीसीसीआई के कार्यवाहक सचिव अमिताभ चौधरी ने विशेष आम बैठक के बाद इसकी जानकारी दी। चौधरी ने कहा, ‘अफगानिस्तान को अपना पहला टेस्ट 2019 में आस्ट्रेलिया के खिलाफ खेलना है लेकिन भारत और अफगानिस्तान के बीच ऐतिहासिक रिश्तों को देखते हुए हमने उनके पहले टेस्ट की मेजबानी करने का फैसला किया है।’ अफगानिस्तान और आयरलैंड को जून में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद का पूर्ण सदस्य बनाया गया था और वे टेस्ट खेलने वाले 11वें और 12वें देश बने थे।

आपको बता दें अफगानिस्तान क्रिकेट को आगे बढ़ाने में बीसीसीआई का बहुत बड़ा हाथ है। बीसीसीआई ने कई मौकों पर अफगानी टीम की मदद की है। आतंक से प्रभावित अफगानिस्तान के सभी मैच भारत में ही आयोजित होते हैं। बीसीसीआई ने ग्रेटर नोएडा का मैदान अफगानिस्तान को दिया है जहां वो आयरलैंड के खिलाफ वनडे सीरीज भी खेल चुका है। इसके अलावा अफगानिस्तान के ऑलराउंडर मोहम्मद नबी आईपीएल में खरीदे जाने वाले पहले अफगानी खिलाड़ी बने थे वहीं राशिद खान को सनराइजर्स हैदराबाद ने रिकॉर्ड बोली पर खरीदा था।

स्पॉट फिक्सिंग केस में फिर शर्मसार हुआ पाकिस्तान, नासिर जमशेद पर लगा बैन
स्पॉट फिक्सिंग केस में फिर शर्मसार हुआ पाकिस्तान, नासिर जमशेद पर लगा बैन

 

अफगानिस्तान की टीम जबर्दस्त

अफगानिस्तान की टीम को यूं ही टेस्ट टीम का दर्जा नहीं मिला है। अफगानी टीम ने पिछले कुछ सालों में लगातार अच्छा प्रदर्शन किया है। पिछले एक साल में अफगानिस्तान ने 26 में से 15 मैच जीते हैं। टी20 में तो उसे 10 में से 7 मुकाबलों में जीत मिली है। यही नहीं अभी हाल ही में मलेशिया में हुआ अंडर 19 एशिया कप का खिताब भी अफगानी टीम ने जीता, जिसमें उसने पाकिस्तान को हराया। साफ है कि अफगानिस्तानी क्रिकेट में टैलेंट का भंडार है और वो अब सफेद कपड़ों और लाल गेंद के खेल में करिश्मा करने को तैयार है। (पीटीआई के इनपुट के साथ)