After being criticized in Bhuvneshwar Kumar, Jasprit Bumrah Injury case NCA will soon get medical panel and social media experts

भुवनेश्वर कुमार, ऋद्धिमान साहा जैसे शीर्ष भारतीय खिलाड़ियों की चोटों से ना निपट पाने की वजह से आलोचना का शिकार हो रही राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी (एनसीए) को जल्द ही बीसीसीआई मेडिकल पैनल की मदद मिलेगी। साथ ही एनसीए में सोशल मीडिया विभाग भी बनाया जायेगा।

एनसीए की हालिया बैठक में मेडिकल पैनल की जरूरत पर चर्चा की गयी जिसमें अध्यक्ष सौरव गांगुली और एनसीए क्रिकेट प्रमुख राहुल द्रविड़ सहित बीसीसीआई के अधिकारियों ने शिरकत की।

साहा और भुवनेश्वर के मामले को देखते हुए ये फैसला लिया गया। वहीं ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या और मुख्य तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह ने भी बेंगलुरू के बजाय निजी रिहैबिलिटेशन कराया जो भी चिंता का विषय था।

सिडनी टेस्ट से पहले बीमार हुए केन विलियमसन, खेलने पर संशय

बीसीसीआई के शीर्ष अधिकारी ने पीटीआई से कहा, ‘‘बीसीसीआई अपना मेडिकल पैनल बनाने के लिए लंदन में स्थित क्लिनिक ‘फोरटियस’ की सलाह लेगा।’’

लंबे समय से खाली ‘तेज गेंदबाजी प्रमुख’ पद पर जल्द ही नियुक्ति की जाएगी। जिस पर एनसीए में तेज गेंदबाजी कार्यक्रम तैयार करने की जिम्मेदारी होगी। इसके अलावा बोर्ड बेंगलुरू स्थित सुविधाओं के लिए पोषण प्रमुख भी नियुक्त करेगा।

हाल में एनसीए गलत कारणों से खबरों में रहा और इसके बारे में कोई अधिकारिक बयान भी नहीं आए। इसलिये अकादमी के लिये सोशल मीडिया मैनेजर भी रखा जायेगा जो एनसीए के अंदर हो रहे सभी कार्यक्रमों के नियमित अपडेट मुहैया करायेगा। बोर्ड अधिकारी ने कहा कि यह कदम एनसीए की प्रतिष्ठा सुधारने में अहम हो सकता है।

एनसीए भुवनेश्वर कुमार के स्पोर्ट्स हर्निया को पहचानने में फेल रहा। बुमराह और हार्दिक जैसे खिलाड़ियों ने भी एनसीए स्टाफ पर निर्भर होने के बजाय चोटों से उबरने के लिए बाहर से मदद ली जिसकी खबर आने के बाद एनसीए की आलोचना हुई।