Aggression on the field isn’t a good thing,doesn’t look good on the TV: Babar Azam
बाबर आजम (Twitter/ICC)

पाकिस्तान के कप्तान बाबर आजम का कहना है कि वो मैदान पर आक्रामकता दिखाना पसंद नहीं करते हैं। आजम की तुलना अक्सर भारतीय कप्तान विराट कोहली से की जाती है जो कि अपने आक्रामक रवैए के लिए मशहूर हैं। लेकिन आजम का कहना है कि मैदान पर आक्रामक होने के बजाय वो अपने खिलाड़ियों को पूरी तरह से सपोर्ट करना चाहते हैं।

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ मंगलवार से शुरू होने वाले टेस्ट मैच से पहले आजम ने कहा, “मेरे हिसाब से, आक्रामकता की जरूरत कभी कभी होता है लेकिन मैदान पर नहीं, ये मैदान के बाहर होना चाहिए। मैदान पर आपने जो भी योजना बनाई है,आप उसे अपने खिलाड़ियों को दें, आपको उका समर्थन करना होता है।”

26 साल के खिलाड़ी ने कहा, “अक्सर आपको उस तरह का प्रदर्शन नहीं मिलता जिसकी आप उम्मीद करते हैं लेकिन उन हालातों में ये जरूरी है कि आप टीम का जितना हो सके उतना समर्थन करें। मेरे हिसाब से मैदान पर आक्रामकता अच्छी चीज नहीं है। ये टीवी पर भी अच्छा नहीं दिखता। लेकिन आपको ड्रिंक्स ब्रेक के दौरान या फिर मैदान से बाहर खिलाड़ियों से बात करनी होती है लेकिन मैच के दौरान आपको उनका पूरा समर्थन करना चाहिए।”

Sri Lanka vs England: रूट की अगुवाई में दूसरे टेस्ट में जीत दर्ज इंग्लैंड ने श्रीलंका को किया क्लीन स्वीप

पिछले साल ही पाक टेस्ट टीम के कप्तान बने आजम को न्यूजीलैंड दौरे पर टीम का नेतृत्व करना था लेकिन अंगूठे में फैक्चर के कारण वो प्लेइंग 11 में जगह नहीं बना सके और दो मैचों की सीरीज को पाकिस्तान ने 2-0 से गंवा दिया। हालांकि अब उन्हें दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ घरेलू सीरीज पर टेस्ट कप्तानी की शुरुआत करने का मौका मिल रहा है।

इस पर बाबर ने कहा, ‘‘मैं न्यूजीलैंड के खिलाफ सीरीज में भाग नहीं ले सका लेकिन मेरे लिए गर्व की बात है कि घरेलू मैदान पर मुझे कप्तानी की शुरूआत करने का मौका मिल रहा है। दक्षिण अफ्रीका एक अच्छी टीम है। आप उन्हें हल्के में नहीं ले सकते हैं, लेकिन परिस्थितियां हमारे अनुकूल है क्योंकि हम में से ज्यातातर खिलाड़ियों ने यहां खेला है।’’

दक्षिण अफ्रीका ने 2007 में पिछली बार पाकिस्तान का दौरा किया था। लाहौर में श्रीलंका की टीम की बस पर 2009 में हुए आतंकवादी हमले के बाद पाकिस्तान अपने घरेलू मैचों को संयुक्त अरब अमीरात में खेलता था। सीरीज का पहला टेस्ट 26 जनवरी से कराची के नेशनल स्टेडियम में खेला जाना है। दूसरा टेस्ट चार फरवरी से रावलपिंडी में खेला जाएगा। इसके बाद तीन मैचों की टी20 अंतरराष्ट्रीय सीरीज का आयोजन लाहौर में 11 से 14 फरवरी के बीच होगा।

पाकिस्तान की टीम जून (2021) में लंदन में खेले जाने वाले विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल की दौड़ से बाहर हो चुकी है जबकि दक्षिण अफ्रीका की संभावनाएं भी बहुत कम है। फाइनल के दो स्थानों के लिए भारत, न्यूजीलैंड, ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड शीर्ष दावेदारों में शामिल हैं।