गाबा में भारत ने ऑस्‍ट्रेलिया (India vs Australia) पर तीन विकेट पर जीत दर्ज करने के साथ ही सीरीज पर 2-1 से कब्‍जा कर लिया. मैच के दौरान कुछ ऐसे पल थे जब कार्यवाहक कप्‍तान अजिंक्‍य रहाणे (Ajinkya Rahane) चाहते थे कि भारत टी नटराजन (T Natarajan) की बल्‍लेबाजी से समय पहले ही पारी घोषित कर दे. रविचंद्रन अश्विन (Ravichandran Ashwin) और बल्‍लेबाजी कोच आर श्रीधर R Shridhar) ने इस बारे में खुलकर अपनी राय रखी.

भारतीय टीम (Team India) पूरे ऑस्‍ट्रेलिया दौरे के दौरान पहले ही चोट से जूझती रही. मोहम्‍मद शमी (Mohammed Shami) भी बल्‍लेबाजी के दौरान ही गेंद लगने से चोटिल हो गए थे. ऐसे में टेस्‍ट डेब्‍यू कर रहे टी नटराजन (T Natarajan) का मिशेल स्‍टार्क, पैट कमिंस, जोश हेजलवुड जैसे गेंदबाजों के सामने बल्‍लेबाजी करना टीम मैनेजमेंट को पसंद नहीं आ रहा था.

आर श्रीधर के यू-ट्यूब चैनल पर बातचीत करते हुए रविचंद्रन अश्विन (Ravichandran Ashwin) ने कहा,”वो ओवर जब नटराजन के सामने गेंदबाजी पर मिशेल स्‍टार्क (Mitchell Starc) थे तो टीम मैनेजमेंट के लिए वो नर्वस मूमेंट थे. यहां तक की कप्‍तान नटराजन के चोटिल होने के डर से चाहते थे कि भारत उनकी बल्‍लेबाजी से पहले ही पारी घोषित कर दे.”

श्रीधर (R Shridhar) ने इसपर आगे बताया, “कप्‍तान तुरंत ही कोचिंग स्‍टाफ के रूम में आए और बोले कि क्‍या हमें अब पारी घोषित कर

देनी चाहिए. अगर उसे चोट लग गई तो हमारे पास दूसरी पारी में गेंदबाजी के लिए केवल तीन बॉलर ही बचेंगे. “

इसपर अश्विन (Ravichandran Ashwin) ने कहा, “कप्‍तान के लिए यही समस्‍या थी. अगर वो खुद और रोहित शर्मा गेंदबाजी कर पाते तो अच्‍छा रहता.” श्रीधर (R Sridhar) ने कहा, “जैसा की नटराजन ने तुमसे कहा था कि उसे स्‍टार्क की गेंदें नजर भी नहीं आ रही थी. इसीलिए अजिंक्य रहाणे नट्टू की बल्‍लेबाजी को लेकर चिंतित थे.”

अश्विन (Ravichandran Ashwin) ने इसपर कहा, “नटराजन स्‍ट्रेट फॉर्वड डिफेंस खेल रहे थे और बॉल को अपने पास ही रोक पा रहे थे. मैंने साफ्ट हैंड से बल्‍लेबाजी करने के लिए उनकी तारीफ की थी. उसने मेरी बात को सही करते हुए कहा कि नई भाई, बॉल मेरे बल्‍ले और पिच के बीच में जाम हो गई थी.”