Ajinkya Rahane did not cut kangaroo cake out of respect after winning the series
अजिंक्य रहाणे (Twitter)

भारतीय बल्लेबाज अजिंक्य रहाणे ने आखिरकार ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट सीरीज में 2-1 से जीतने के बाद कंगारू केक ना काटने का कारण बताया। विराट कोहली की गैरमौजूदगी में बॉर्डर गावस्कर ट्रॉफी में भारतीय टीम की अगुवाई करने वाले रहाणे ने कहा कि उन्होंने अपने प्रतिद्वंदियों का सम्मान करते हुए केक को काटने से इंकार किया।

टेस्ट सीरीज जीत के बाद जब रहाणे अपने घर लौटे तो उनका जोरदार स्वागत किया गया। रहाणे के लिए स्वागत के लिए एक केक भी तैयार कराया, जिस पर कंगारू बना था। लेकिन रहाणे ने उस केक को काटने से इनकार कर दिया।

रहाणे ने मशहूर कमेंटेटर हर्षा भोगले के साथ उनके फेसबुक पेज पर बातचीत के दौरान कहा, “कंगारू ऑस्ट्रेलिया का राष्ट्रीय पशु है। मैं ऐसा नहीं करना चाहता था। आप विपक्षी टीम को हराएं। भले ही आप जीतें, आप इतिहास रच दें, लेकिन मुझे लगता है कि आपको विरोधी को भी सम्मान देना चाहिए। हार-जीत के बावजूद आपको सम्मान देने की जरूरत होती है। यही वजह थी कि मैंने केक काटने से मना कर दिया।”

टिम पेन को कप्तानी से ना हटाना अच्छा फैसला लेकिन उसे मैदान पर मदद की जरूरत है: माइकल क्लार्क

विराट कोहली ऑस्ट्रेलिया में पहले टेस्ट के बाद अंतिम तीन टेस्ट मैचों में नहीं खेले थे और अपने पहले बच्चे के जन्म के लिए स्वदेश लौट आए थे। कोहली जब कप्तान थे तो पहले टेस्ट में भारत 36 रन पर ढेर हो गया था।

उनके बाद रहाणे ने टीम की कमान संभाली थी और दूसरे टेस्ट में भारत को आठ विकेट से जीत दिलाई थी। इसके बाद सिडनी में मैच ड्रॉ रहा था और ब्रिस्बेन में भारत ने तीन विकेट से ऐतिहासिक जीत के साथ सीरीज 2-1 से जीत ली।