Ajinkya Rahane is practicing under guidance of Rahul Dravid in Bangalore
Ajinkya Rahane (File Photo) © AFP

भारत की टेस्ट टीम के उप-कप्तान अजिंक्य रहाणे ने शनिवार को कहा कि वह नंबर-4 पर बल्लेबाजी करना पसंद करते हैं। नंबर-4 वह स्थान है, जिसे लेकर सीमित ओवरों में भारतीय क्रिकेट में लंबे समय से अच्छे बल्लेबाज की तलाश जारी है। विश्व कप 2019 में भारत सेमीफाइनल में हार कर बाहर हो गया और पूरे टूर्नामेंट में नंबर-4 का स्थान चर्चा का विषय रहा। न ही विजय शंकर और न ही रिषभ पंत इस नंबर पर अपनी छाप छोड़ पाए।

पढ़ें:- भारत की जीत में चमके नवदीप सैनी, विंडीज पर सीरीज में बनाई 1-0 से बढ़त

रहाणे ने बंगाल क्रिकेट संघ (सीएबी) के वार्षिक अवार्ड समारोह के मौके पर कहा, “रोचक बात है कि पुरस्कर वितरण में मेरा नंबर चार है.. मैं नंबर-4 पर बल्लेबाजी करना पसंद करता हूं। यह मेरा पसंदीदा स्थान है।”

रहाणे सीएबी के कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर पर हिस्सा ले रहे थे। भारत को विंडीज के खिलाफ दो टेस्ट मैचों की सीरीज खेलनी है। इस सीरीज में भारत को पसंदीदा टीम माना जा रहा है, लेकिन रहाणे ने कहा है कि यह सीरीज आसान नहीं होगी।

दाएं हाथ के इस बल्लेबाज ने कहा, “हम सभी जानते हैं कि वह खतरनाक और हैरान करने वाली टीम है। मैं वेस्टइंडीज के खिलाफ खेलने को तैयार हूं।”

पढ़ें:- The Ashes: दूसरी पारी में भी स्मिथ के बल्‍ले से निकले रन, इंग्‍लैंड पर बनाई 34 रन की बढ़त

रहाणे ने कहा, “यह अहम है कि हम उनकी इज्जत करें और अपना खेल खेलें, जिस तरह से खेलते आ रहे हैं, खासकर टेस्ट क्रिकेट में। मेरे लिए यह जरूरी है कि मैं अपना सर्वश्रेष्ठ दूं। मेरा ध्यान हमेशा से टीम में अपना योगदान देने पर होता है।”

राहुल द्रविड़ की देखरेख में प्रैक्टिस कर रहे हैं रहाणे

रहाणे ने एनसीए में अपने आदर्श राहुल द्रविड़ के साथ अभ्यास करने पर भी बात की।  “मैं बेंगलुरू में इसलिए अभ्यास कर रहा था, क्योंकि मुंबई में इस समय भारी बारिश हो रही है। मैं राहुल द्रविड़ के साथ अभ्यास करना चाहता था। मैं हमेशा से उनको देखता आया हूं, वह मेरे रोल मॉडल खिलाड़ियों में से एक हैं। मैं इस बात से खुश हूं कि वह इस समय बेंगलुरू में हैं। वहां मैं अपनी फिटनेस पर ध्यान दे रहा हूं।”

पढ़ें:- IND vs WI: पहली ही गेंद पर आउट हुए रिषभ पंत, ट्वीटर पर जमकर उड़ा मजाक

विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप पर रहाणे ने कहा, “यह अच्छी चीज है। हर टेस्ट मैच और हर टेस्ट सीरीज अब खास है। इस प्रारूप को लेकर सबसे अच्छी बात यह है कि आपको हर दिन अपने रूटीन के हिसाब से काम करना होता है।”