Ajit Agarkar questions Shikhar Dhawan and KL Rahul’s worth in Team India
KL Rahul, Shikhar Dhawan © AFP

भारतीय टेस्ट टीम के शीर्ष क्रम बल्लेबाज केएल राहुल और शिखर धवन दोनों ही इंग्लैंड के खिलाफ सीरीज में फ्लॉप रहे हैं। राहुल ने इस दौरे पर खेले पांच मैचों की 9 पारियों में 16.66 की औसत से 150 रन बनाए हैं। वहीं धवन ने 4 मैचों की सात पारियों में 23 की औसत से 161 रन बनाए हैं। दोनों ही खिलाड़ियों को नाम एक भी अर्धशतक नहीं है। जहां मुरली विजय को तीन मैचों के बाद खराब प्रदर्शन के बाद टीम से बाहर कर दिया था, वहीं लगातार फेल होने के बाद भी टीम इंडिया राहुल और धवन को मौका दे रही है। पूर्व भारतीय क्रिकेटर अजीत अगरकर ने भारतीय टीम के इस रवैये पर सवाल उठाए हैं।

ईएसपीएन क्रिकइंफो से बातचीत में अगरकर ने कहा, “हां सलामी बल्लेबाजों के लिए हालात मुश्किल हैं लेकिन अब पांच मैच हो चुके हैं और बाकी खिलाड़ियों के मुकाबले ये कहीं ज्यादा मौके हैं। मेरा मतलब है कि विजय को तीन मैच के बाद वापस भेज दिया था, जो कि मौजूदा समय में भारत का सबसे सफल सलामी बल्लेबाज रहा है। इसलिए अब वक्त आ गया है ये सवाल उठाने का कि क्या राहुल और धवन टीम में रहने लायक हैं या नहीं।”

पूर्व तेज गेंदबाज ने आगे कहा, “धवन के लिए ये विदेशों में एक और असफलता है। हां कभी कभी कोच के मन में एक खिलाड़ी के साथ बने रहने की मजबूत भावना होती है लेकिन धवन के लिए तो विदेशों में फेल होना एक सिलसिला बनता जा रहा है। यही बात राहुल के साथ भी है और ये एक बड़ी सीरीज है।”

फिलहाल ओवल में चल रहे पांचवें टेस्ट मैच में भी राहुल और धवन फ्लॉप रहे। पारी की शुरुआत करने आए धवन जहां 3 रन बनाकर स्टुअर्ट ब्रॉड की गेंद पर आउट हो गए। वहीं अच्छी शुरुआत के बाद 37 रन बनाने के बाद राहुल सैम कर्रन की गेंद पर बोल्ड होकर बड़ी पारी से चूक गए। देखा जाय तो टीम इंडिया के पास फिलहाल पृथ्वी शॉ (स्क्वाड में शामिल) और मयंक अग्रवाल जैसे विकल्प हैं जो भविष्य में टेस्ट टीम में सलामी बल्लेबाज की भूमिका निभा सकते हैं। इसके बावजूद टीम मैनेजमेंट और कोच का धवन और राहुल को लगातार मौका देना समझ से बाहर है।