Alex Marshall, General Manager of ICC ACU: first time in World Cup an ACU officer will be appointed to each team
टीम इंडिया (Getty images)

अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) के भ्रष्टाचार रोधी ईकाई (एसीयू) के महाप्रबंधक एलेक्स मार्शल ने उम्मीद जताई है कि 30 मई से इंग्लैंड एंड वेल्स में शुरू हो रहा विश्व कप फिक्सिंग जैसी चीजों से पूरी तरह मुक्त रहेगा।

फिक्सिंग को गंभीरता से लेते हुए आईसीसी ने कई सख्त कदम उठाए हैं। विश्व कप में ऐसा पहली बार होगा कि प्रत्येक टीम के साथ एक एसीयू अधिकारी नियुक्त किया जाएगा जो हमेशा टीम के साथ रहेगा और टीम पर नजरें बनाए रखेगा।

इसके पीछे मकसद खिलाड़ियों और एसीयू के संबंधों को बेहतर करना है ताकि खिलाड़ी एसीयू से अपनी बात आसानी से कह सके।

एंडिल फेहलुकवायो के 4-विकेट हॉल की मदद से दक्षिण अफ्रीका ने श्रीलंका को हराया

एलेक्स ने टूर्नामेंट से पहले कहा है, “इस विश्व कप की सबसे अच्छी बात यह है कि मैं इस बात की गारंटी दे सकता हूं कि हर टीम जानती है कि खतरा क्या है और वो जानते हैं कि उन्हें समस्या से किस तरह से दूर रहना है।”

उन्होंने कहा, “आखिरी के 18 महीनों में हमने 14 से 15 लोगों के आरोपी बनाया है। इनमें से कोई भी मौजूदा खिलाड़ी नहीं है। जिन लोगों पर आरोप लगे हैं उनमें प्रशासक, सीनियर अधिकारी, बोर्ड अधिकारी, प्रशिक्षक, पूर्व खिलाड़ी और विश्लेषक हैं। ये वो लोग हैं जो टीम के करीब थे ना कि खिलाड़ियों के समूह में।”

बाबर आजम का शतक बेकार, अफगानिस्तान ने पाकिस्तान को हराया

उन्होंने इस विश्व कप के बारे में बात करते हुए कहा, “जब भ्रष्टाचारी लोग इस विश्व कप को देखेंगे तो वो देखेंगे कि ये काफी पेशेवर, सही तरीके से आयोजित और संचालित किया जाने वाला टूर्नामेंट है। ये भ्रष्टाराचारियों के लिए पास आने के लिए काफी मुश्किल टूर्नामेंट है।”

हर टीम के साथ एक एसीयू अधिकारी नियुक्त करने के बारे में मार्शल ने कहा, “ये मेरे लोग हैं जिन्होंने पूरे विश्व में काम किया है और आमतौर पर ऐसे लोग हैं जो टीम के साथ साल भर से किसी तरह जुड़े रहे हैं और उनका टीम के खिलाड़ियों तथा स्टाफ के साथ अच्छे संबंध हैं। हमारा काम टीम के साथ मैदान पर और जहां वो रूके हैं वहां पर है।”