All cricketer should be happy with DRS system says Virat Kohli
Virat Kohli (File Photo) @ Getty Images

पूर्व दिग्‍गज अंपायर साइमन टॉफेल ने बुधवार को डिसीजन रिव्‍यू सिस्‍टम (DRS) पर सवाल उठाते हुए कहा था कि नए सिस्‍टम के आने से अंपायराें को मैदान पर लाखों लोगों के सामने ही शर्मिंदा होना पड़ता है। पर्थ टेस्‍ट से पहले भारतीय कप्‍तान विराट कोहली ने इसपर अपनी प्रतिक्रिया दी। विराट ने इसे क्रिकेट के हित में बताते हुए कहा कि सभी खिलाड़ियों को इससे खुश होना चाहिए।

एडिलेड टेस्‍ट में भारत की दूसरी पारी के दौरान चेतेश्‍वर पुजारा और अजिंक्‍य रहाणे को फील्‍ड अंपायर ने आउट करार दिया था। दोनों खिलाड़ियों ने डीआरएस की मदद ली और फील्‍ड अंपायर को अपना निर्णय बदलना पड़ा। पैट कमिंस के आउट होने को लेकर डीआरएस भारत के पक्ष में गया। एडिलेड टेस्‍ट के बाद ऑस्‍ट्रेलिया के कप्‍तान टिम पेन ने बॉल ट्रैकिंग सिस्‍टम पर सवाल उठाए थे।

पढ़ें:- पर्थ टेस्ट में भुवनेश्वर कुमार की प्लेइंग इलेवन में हो सकती है वापसी

विराट ने मीडिया से बातचीत के दौरान कहा, “आपको डीआरएस के सभी अच्‍छी और बुरी बातों को अपनाना होगा। कभी अस्‍पष्‍ट निर्णय आपके पक्ष में जाता है तो कभी विरोधी टीम के। मुझे इससे कोई समस्‍या नहीं है।”

विराट ने कहा कि डीआरएस की मदद से कई महत्‍वपूर्ण निर्णय बदले गए हैं। इसने खेल को नए आयाम तक पहुंचाया है। मेरी नजर में ये एक ऐसी चीज है जिससे सभी खिलाड़ियों को खुश होना चाहिए। विराट ने माना कि डीआरएस आने के बाद भी क्रिकेट पूरी तरह से गलतियों से मुक्‍त नहीं हो पाएगा, लेकिन फिर भी ये अच्‍छा है।

पढ़ें:  पृथ्वी शॉ के बाद रोहित शर्मा और आर अश्विन भी हुए चोटिल

विराट कोहली ने कहा, “मानवीय गलतियों को ध्‍यान में रखें तो कभी कोई चीज पूरी तरह परफेक्‍ट नहीं हो सकती। मुझे विश्‍वास है कि तकनीकी गलतियों पर काम किया जा रहा है। साथ ही उन्‍हें सुधारने की कोशिश भी हो रही है। तकनीक में हमेशा सुधार की गुंजाइश होती है।””