Ambati Rayudu has withdrawn form retirement; Set to play for Hyderabad again
अंबाती रायुडू © Getty Images (file photo)

विश्व कप स्क्वाड से अनदेखी किए जाने के बाद अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से संन्यास का ऐलान करने के दो महीनों अंदर ही अंबाती रायुडू ने यू-टर्न ले लिया है। हैदराबाद क्रिकेट एसोसिएशन की ओर से जारी किए बयान के मुताबिक रायुडू ने संन्यास की घोषणा से वापसी कर ली है और आगामी घरेलू सीजन में हैदराबाद के लिए खेलने की इच्छा जताई है।

रायुडू ने एचसीए की प्रशासनिक समिति (सीओए) को लिए पत्र में ये बात कही। उन्होंने लिखा, “मैं (अंबाती रायुडू) आपका ध्यान इस बात की तरफ लाना चाहूंगा कि मैं रिटायरमेंट से वापसी करना चाहगा हूं और क्रिकेट से सभी फॉर्मेट में खेलना चाहता हूं।”

द हिंदू में छपे रायुडू के इस भावुक पत्र के मुताबिक, “मैं इस मौके पर चेन्नई सुपर किंग्स, वीवीएस लक्ष्मण और नोएल डेविड का शुक्रिया करना चाहूंगा, जिन्होंने मुश्किल समय में मेरा साथ दिया और मुझे ये समझाया कि मुझमें अब भी क्रिकेट बाकी है। मैं प्रतिभावान हैदराबाद टीम के साथ एक शानदार सीजन खेलने का इंतजार कर रहा हूं और टीम को उनकी असल ताकत पहचानने में मदद करने को उत्साहित हूं। मैं हैदराबाद टीम के साथ जुड़ने के लिए 10 सितंबर से उपलब्ध रहूंगा।”

बंगाल की कप्‍तानी से मनोज तिवारी की छुट्टी, दोहरा शतक जड़ने वाले युवा को मिला मौका

रायुडू के इस पत्र के जवाब में हैदराबाद क्रिकेट एसोसिएशन ने प्रेस रिलीज जारी कर कहा, “ये आपको बताने के लिए है कि अंबाती रायुडू ने अपने संन्यास की घोषणा वापस ले ली है और खुद को 2019-10 सीजन में सीमित ओवर फॉर्मेट के लिए उपलब्ध कराया है।”

बता दें कि रायुडू ने ठीक 5 दिन पहले इंडियन प्रीमियर लीग में खेलने की इच्छा जताई थी और अब वो घरेलू क्रिकेट में वापसी करना चाहते हैं। रायुडू के इस फैसले से एचसीए के प्रमुख चयनकर्ता नोएल डेविड काफी खुश हैं। उन्होंने कहा, “ये हमारे लिए अच्छी खबर है। मुझे अब भी लगता है कि उसके अंदर क्रिकेट के पांच साल और बाकी है और युवाओं को तैयार करने के, जो कि हमारे लिए अहम है। पिछले साल, उसके बिना हमने रणजी ट्रॉफी में संघर्ष किया था।”

डेविड ने आगे कहा, “रायुडू का स्तर और अनुभव हैदराबाद के काम आएगा और उसके सभी फॉर्मेट में खेलने का प्रभाव बाकी खिलाड़ियों पर भी पड़ेगा। उम्मीद है कि वो अपना काम जारी रखेगा और आगे से नेतृत्व करेगा। मुझे यकीन है कि उसे हर तरफ से समर्थन मिलेगा।”

टेस्‍ट सीरीज में वेस्‍टइंडीज को क्‍लीन स्‍वीप करने के इरादे से मैदान में उतरेगा भारत

विश्व कप स्क्वाड में उनकी जगह ऑलराउंडर खिलाड़ी विजय शंकर को प्राथमिकता दिए जाने से नाराज रायुडू ने ट्विटर के जरिए अपनी नाराजगी जाहिर की थी। बाद में सलामी बल्लेबाज शिखर धवन और फिर शंकर के चोटिल होने के बावजूद भी उन्हें विश्व कप टीम में शामिल नहीं किया गया तो उन्होंने जुलाई में संन्यास की घोषणा कर दी।

हालांकि रायुडू ने हाल ही में बयान दिया था कि संन्यास का फैसला उन्होंने भावुक होकर नहीं लिया था लेकिन जिस तरह से वो फिर से क्रिकेट की ओर बढ़ रहे हैं, इससे साफ है कि उन्हें भी जल्दबाजी में संन्यास का ऐलान करने का मलाल है।