Ambati Rayudu’s performance in Wellington ODI reminded Mohinder Amarnath of Kapil dev’s inning in 1983 WC
AMBATI RAYUDU (IANS)

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व खिलाड़ी और शानदार बल्लेबाज मोहिंदर अमरनाथ ने न्यूजीलैंड के खिलाफ आखिरी वनडे मैच में अंबाती रायडू के प्रदर्शन की तारीफ की है। शीर्ष चार विकेट जल्दी खोने के बाद रायडू ने मध्य क्रम के बल्लेबाजों के साथ मिलकर भारत को 252 के स्कोर तक पहुंचाया। जिसके बाद टीम इंडिया ने 35 रनों से मैच जीता।

टाइम्स ऑफ इंडिया के लिए लिखे कॉलम में अमरनाथ ने कहा कि रायडू के इस प्रदर्शन ने उन्हें 1983 विश्व कप में जिम्बाब्वे के खिलाफ खेली कपिल देव की शतकीय पारी की याद दिलाई। उन्होंने लिखा, “आखिरी के दोनों वनडे मैचों हालात मुश्किल थे लेकिन लड़कों ने चौथे वनडे से सबक लिया। 92 पर ऑलआउट होना ऐसी चीज नहीं है जो आप देखना चाहेंगे। चार विकेट जल्दी खोने के बावजूद फाइनल वनडे में उन्होंने अपने आप को लागू किया।”

ये भी पढ़ें: रिषभ पंत आक्रामक बल्लेबाज, विरोधी से मैच छीन सकते हैं-धवन

अमरनाथ ने आगे लिखा, “अंबाती रायडू ने शानदार पारी खेली और अपना अनुभव दिखाया, उसके प्रदर्शन के बदौलत भारत एक सम्मानजनक स्कोर तक पहुंच पाया। उसने क्रीज पर टिके रहकर सही काम किया जो कि 50 ओवर के खेल में सही तरीका है क्योंकि आपको पता होगा है कि काफी गेंद बाकी हैं। रायडू को बाकी बल्लेबाजों, खासकर कि विजय शंकर, केदार जाधव और हार्दिक पांड्या का अच्छा साथ मिला। इसने मुझे 1983 के विश्व कप में जिम्बाब्वे के खिलाफ पारी की याद दिलाई, जहां हम लगभग इसी स्थिति में थे। टॉप पांच बल्लेबाज सस्ते में आउट हो गए थे जिसके बाद कपिल देव ने पारी संभालते हुए 175 रन बनाए और हम 31 रनों से वो मैच जीते।”

ये भी पढ़ें: रिषभ पंत को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ नंबर 4-5 पर खेलते देखना चाहते हैं गावस्कर

वनडे सीरीज में भारत 4-1 से कब्जा कर चुका है और अब टी20 फॉर्मेट की बारी है। भारत और न्यूजीलैंड के बीच 6 फरवरी से तीन मैचों की टी20 सीरीज खेली जानी है। जिसे लेकर अमरनाथ ने लिखा, “अब दोनों टीमें तीन मैचों की टी20 सीरीज की तरफ बढ़ रही हैं और यहां सब कुछ उस एक दिन बेहतर प्रदर्शन करने पर निर्भर है। ईमानदारी से कहूं तो कोई फेवरेट नहीं है। वनडे में आपके पास ज्यादा ओवर होते है और शुरुआती में गलती होने के बाद आपके पास वापसी का मौका होता है लेकिन यहां पर समय नहीं होता। इस फॉर्मेट में भारतीय खिलाड़ियों के पास जिस तरह का अनुभव है वो उन्हें मदद करेगा। उन्होंने बाकी देशों के खिलाड़ियों के मुकाबले ज्यादा टी20 मैच खेले हैं।”