Amitabh Choudhary Lashes Out at BCCI Acting President CK Khanna
Amitabh Choudhary and CK Khanna

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) और प्रशासकों की समिति (सीओए) के बीच आईपीएल विजेता को ट्रॉफी देने के लिए उपजे विवाद में एक नया मोड़ आ गया है। बीसीसीआई के कार्यवाहक सचिव अमिताभ चौधरी ने खन्ना पर हमला बोलते हुए कहा है कि बार-बार फोटो खिंचाने के अलावा कार्यवाहक अध्यक्ष ने कितना काम किया है। चौधरी ने खन्ना पर आरोप मढ़ते हुए कहा है कि वह काम को बहुत कम तवज्जो देते हैं।

चौधरी ने एक पत्र लिखकर खन्ना को आड़े हाथों लेते हुए लिखा, “यह शायद किस्मत ही होगी। सर्वोच्च अदालत ने दो जनवरी 2017 को बोर्ड के अध्यक्ष को हटा दिया था और उसके पास पांच उपाध्यक्षों में से किसी एक को अध्यक्ष बनाने के अलावा कोई और विकल्प था नहीं। इसके बाद आपको वो पद मिला जिस पर ग्रांट गोवन, सर सिकंदर हयात खान, विजिनाग्राम, एम.ए. चिदम्बरम, जेड. आर. ईरानी, एन.के. पी साल्वे, राज सिंह डुंगरपुरा, जगमोहन डालमिया, शरद पवार और शशांक मनोहर जैसे लोग बैठे। इन सभी ने शानदार काम किया और क्रिकेट जैसे महान खेल में अपना योगदान देते हुए सम्मान हासिल किया।”

पढ़ें:- अब रणजी ट्रॉफी में भी उठी DRS लागू करने की मांग

चौधरी ने लिखा, “आपने पद संभालने के बाद से किया क्या है ? सिर्फ पास लेने, नए साल, दिवाली, क्रिसमस की बधाई देने के अलावा। आपने फोटो खिंचाने का एक भी मौका नहीं छोड़ा। आपने यह भी नहीं सोचा कि इससे आपने बीसीसीआई की साख और गरिमा को कितना नुकसान पहुंचाया है।”

उन्होंने कहा, “मुझे याद नहीं आता कि आपने कब अहम बैठकों में कभी एक शब्द भी कहा हो या अहम मुद्दों को लेकर कभी ई-मेल किया हो, चाहे वो लोढ़ा समिति की सिफारिश हों, सर्वोच्च अदालत का 18 जुलाई 2016 को लिया गया फैसला हो, यौन शोषण का मामला हो, हाल ही में फेमा के मामले में भी आपने चुप्पी साधे रखी।”

पढ़ें:- सबा करीम के मालदीव जाने की खबर से बीसीसीआई अधिकारी हैरान

सचिव ने एक बार फिर खन्ना से सवाल पूछा कि भारत-ऑस्ट्रेलिया के बीच खेले गए अंतिम मैच में एक राज्य संघ के अध्यक्ष को कैसे ट्रॉफी देने की इजाजत दे दी।

उन्होंने लिखा, “आपने भारत और ऑस्ट्रेलिया मैच के पुरस्कार वितरण पर किए सवाल का जवाब नहीं दिया। शायद यह काफी नहीं था, अब आपने आईपीएल के फाइनल में ट्रॉफी देने को लेकर विवाद खड़ा कर दिया और पूरी दुनिया को इसके बारे में पता चल गया। ऐसा प्रतीत होता है कि उस दिन आपके दिमाग में काफी पहले से यह बात चल रही थी कि आप उस दिन विजेता टीम को ट्रॉफी दें।”

चौधरी ने लिखा, “बीसीसीआई का आखिरी चुनाव 2015 में हुआ था। चार अधिकारियों को नियुक्त किया गया था लेकिन उनमें से आप नहीं थे। आप यहां तक कि अधिकारी के रूप में चुने भी नहीं गए हैं क्योंकि उस समय का बोर्ड का संविधान पांच उपाध्यक्षों को अधिकारी भी नहीं मानता था।”

चौधरी ने लिखा, “मैं आपको बता दूं, इस तरह के प्रावधान इत्तेफाक मात्र नहीं थे। उस समय के नियम के मुताबिक, हर जोन से एक उपाध्यक्ष होना था इसलिए पांच उपाध्यक्ष थे, लेकिन इनके पास करने के लिए ज्यादा कुछ काम नहीं था। आप उनमें से एक चुने गए थे वो भी सीमित अधिकारों के साथ।”