अनिल कुंबले और राहुल द्रविड़ © Getty Images (File Photos)
अनिल कुंबले और राहुल द्रविड़ © Getty Images (File Photos)

एक मुख्य बदलाव को देखते हुए, भारतीय टीम के मुख्य कोच अनिल कुंबले अपने पद से स्तीफा देते हुए टीम डायरेक्टर का पद स्वीकार कर सकते हैं। इंडियन एक्सप्रेस में छपी रिपोर्ट के मुताबित वर्तमान बॉर्डर- गावस्कर ट्रॉफी अनिल कुंबले की बतौर कोच अंतिम सीरीज होगी। वह टीम डायरेक्टर का पद 14 अप्रैल तक संभाल सकते हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, कुंबले कोर्ट के द्वारा नियुक्त प्रशासकों की समिति(सीओए) से हाल ही में मिले हैं। जिन्होंने कुंबले को सीनियर, ए टीम, जूनियर और महिला टीम के बारे में एक व्यापक रिपोर्ट बनाने की जिम्मेदारी दूसरे टेस्ट मैच के बाद ही दे दी है। ये समझा जा सकता है कि वर्तमान में बीसीसीआई में जो लोग निर्णय ले रहे हैं वह संरचनात्मक परिवर्तनों के लिए उत्सुक हैं।

रिपोर्ट में बीसीसीआई के सूत्रों के हवाले से बताया गया है कि बोर्ड इंग्लैंड और वेल्स क्रिकेट बोर्ड(ईसीबी) जैसे स्ट्रक्चर(संरचना) को लागू करने की योजना बना रहा है। ईसीबी के डायरेक्टर इंग्लैंड के पूर्व क्रिकेट कप्तान एंड्रयु स्ट्रॉस हैं। सीओए ने शायद कुंबले को इस ऑफर के संबंध में सोचने के लिए थोड़ा समय दिया है। क्योंकि ये प्रभार संभालने के बाद उन्हें वर्तमान में टीम इंडिया को दिए जा रहे समय से ज्यादा समय देना होगा।

इस परिवर्तन के अलावा, बीसीसीआई क्रिकेट एडवाइजरी कमेटी को लेकर राजी नहीं है जिसके वर्तमान में सचिन तेंदुलकर, सौरव गांगुली, वीवीएस लक्ष्मण सदस्य हैं। अगर कुंबले ऑफर को स्वीकार कर लेते हैं, तो इस समिति के एक खिलाड़ी को बीसीसीआई की सभी टीमों के क्रिकेट ऑपरेशन को चलाने की जिम्मेदारी दे दी जाएगी।[ये भी पढ़ें: राशिद खान ने 2 रन देकर लिए 5 विकेट, बना डाला बड़ा रिकॉर्ड]

रिपोर्ट में इंडियन क्रिकेट बोर्ड के हवाले से कहा गया है, “हमें समय के साथ आगे जाने की जरूरत है। इसलिए इन संरचनात्मक परिवर्तनों की ओर गौर किया जा रहा है। अगर ये लागू होते हैं, तो भारतीय क्रिकेट को फायदा होगा। एक व्यक्ति पूरी टीम की जिम्मेदारी संभालेगा और सभी जुड़े हुए लोगों के बीच अच्छा तालमेल रहेगा। ये योजना पहले से ही निश्चित है और इसकी पूरी संभावनाएं हैं कि जब नए कॉन्ट्रेक्ट्स बाहर आएंगे तो ये परिवर्तन किए जाएंगे।”

वर्तमान में टीम इंडिया के क्रिकेट ऑपरेशन को एमवी श्रीधर संभालते हैं। इसमें कोई स्पष्टता नहीं है कि वह इस पद पर बने रहते हैं कि नहीं। इसके अलावा कुंबले के डायरेक्टर की भूमिका लेने के बाद से उम्मीदें जताई जा रही हैं कि राहुल द्रविड़ टीम इंडिया के कोच की भूमिका निभा सकते हैं। वर्तमान में द्रविड़ इंडिया ए और अंडर- 19 टीम के कोच हैं। सूत्रों के मुताबिक, “ये कहना बहुत जल्दबाजी होगी कि कुंबले इस रोल को संभालते हैं कि नहीं। कोच और टीम डायरेक्टर एक साथ बने रहना आसान काम नहीं है। क्योंकि इसके लिए आपको बहुत समय देना होता है। जितना क्रिकेट हम खेलते हैं हो सकता है कि उन्हें बहुत ज्यादा समय देना पड़े। अगर वह नहीं कर पाते, तो हमें बैक- अप रखना भी जरूरी है। क्योंकि इससे हम टीम को प्रभावित नहीं कर सकते। खासतौर पर तब जब चैंपियंस ट्रॉफी जल्दी ही खेली जानी है।”