पूर्व क्रिकेटर और कमेंटेटर संजय मांजरेकर ने इंग्लैंड में आयोजित विश्व कप के दौरान कहा था कि वो ऑलराउंडर खिलाड़ियों की बजाय पूर्व बल्लेबाज और गेंदबाज पर भरोसा करेंगे। मांजरेकर के इस बयान का इशारा भारतीय ऑलराउंडर रवींद्र जडेजा की तरफ था, जिसके लिए उनकी काफी आलोचना हुई थी। वहीं जडेजा ने भी बल्लेबाजी, गेंदबाजों और फील्डिंग में अपने शानदार प्रदर्शन से उन्हें करारा जवाब दिया था। हालांकि अब भारतीय टीम के पूर्व कोच ने भी कुछ ऐसा ही बयान दिया है।

पूर्व भारतीय दिग्गज अनिल कुंबले का मानना है कि ऑस्ट्रेलिया में होने वाले टी20 विश्व कप के लिए भारतीय टीम को ऑलराउंडर खिलाड़ी की जगह विकेट लेने वाले तेज गेंदबाजों को तरजीह देनी चाहिए।

कुंबले ने ‘क्रिकनेक्स्ट’ से बातचीत में कहा, ‘‘मैं निश्चित रूप से मानता हूं कि आपको विकेट लेने वाले गेंदबाजों की जरूरत होगी। ऐसे में मेरे मुताबिक कुलदीप यादव और युजवेंद्र चहल जैसे खिलाड़ियों को टीम में जगह मिलनी चाहिए। आप सवाल उठा सकते हो कि जब ओस की वजह से गेंद गीली हो जाती है तब टीम में दो रिस्ट स्पिनरों का होना क्या सही है?’’

पीटर मलान के डेब्यू को लेकर मुश्किल में फंसी दक्षिण अफ्रीका

अपने समय के दिग्गज स्पिन गेंदबाज ने कहा, ‘‘ये काफी जरूरी है कि आप विकेट लेने वाले विकल्प की तलाश करें। टीम ऑलराउंडर खिलाड़ी को ढूंढ रही है लेकिन आपको ऐसे तेज गेंदबाजों को रखना होगा जो विकेट ले सकें। मुझे लगता है कि ये काफी मुश्किल परिस्थिति है।’’

कुंबले के मुताबिक ये जानना भी अहम है कि ऑस्ट्रेलिया के हालातों में कौन से खिलाड़ी अच्छा प्रदर्शन कर सकते हैं।उन्होंने कहा, ‘‘भारत के लिए ये सोचना काफी अहम होगा कि ऑस्ट्रेलिया की परिस्थितियों में कौन प्रदर्शन करेगा और कौन से ऐसे गेंदबाज हैं जो विकेट लेने की क्षमता रखते हैं। क्योंकि इसी से विरोधी टीम पर दबाव बनेगा।’’