Arun Dhumal: No talks yet around Virat Kohli and Co. taking pay-cut
Indian Cricket Team @twitter (file image)

कोविड-19 महामारी से बचाव के लिए भारत में इस समय 21 दिन का लॉकडाउन घोषित किया गया है। दुनिया भर में सभी खेल  प्रतियोगिताएं स्थगित कर दी गई हैं। इस महामारी से बचाव के लिए किए गए लॉकडाउन से होने वाले आर्थिक नुकसान का प्रभाव इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बाद भारतीय क्रिकेटरों की जेब पर भी पड़ने की खबरें आई थी लेकिन भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के कोषाध्यक्ष अरुण धूमल ने साफ कर दिया है कि इस समय भारतीय क्रिकेट खिलाड़ियों का वेतन काटने को लेकर किसी तरह की चर्चा नहीं है।

इयोन मोर्गन का दावा, इंग्‍लैंड की टीम एक वक्‍त में दो सीरीज खेलने को है तैयार

धूमल ने आईएएनएस से बात करते हुए कहा कि इस तरह की चर्चा नहीं है और बेशक इस बीमारी का असर गहरा हो लेकिन वेतन में कटौती बोर्ड के दिमाग में नहीं है।

बकौल धूमल, ‘नहीं, हमने वेतन कटौती को लेकर बात नहीं की है। इस महामारी के बाद जो भी फैसले लिए जाएंगे वो सभी लोगों का हित ध्यान में रखकर लिए जाएंगे। जो भी फैसला लिया जाएगा उसके बारे में सोचा जाएगा और अभी हमने इस बारे में सोचा भी नहीं है। जाहिर तौर पर यह बड़ी आपदा है, लेकिन हम इसे इस तरह से निपटने की कोशिश करेंगे कि कोई भी इससे आहत न हो। एक बार जब स्थिति सामान्य हो जाएगी तो चीजों पर चर्चा की जाएगी।’

कोरोना वायरस से मुकाबले के लिए CSA ने तैयार किया चार-सूत्री कार्यक्रम

इस समय खिलाड़ियों के वेतन कटौती की खबरें आम हैं। रिपोर्ट की मानें तो स्पेन के फुटबॉल क्लब बार्सिलोना ने अपने खिलाड़ियों से कटौती करने को कहा था और मेसी इससे खुश नहीं दिखे थे।

गौरतलब है कि कोरोनावायरस के कारण विश्व में लगभग 40 हजार से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है जबकि लगभग 9 लाख लोग इससे संक्रमित हैं। भारत में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 1600 तक पहुंच गई है जबकि इसकी चपेट में आकर जान गंवाने वालों की संख्या 40 को पार कर गई है।