असेला गुणारत्ने टीम के खिलाड़ियों के साथ  © Getty Images
असेला गुणारत्ने टीम के खिलाड़ियों के साथ © Getty Images

ऑलराउंडर असेला गुणारत्ने भारत के खिलाफ मौजूदा सीरीज में श्रीलंका की टेस्ट टीम में शामिल हो सकते है। इस बात की जानकारी श्रीलंका क्रिकेट ने शनिवार को दी। बेहतरीन ऑलराउंडर असेला ने अपने प्रदर्शन से श्रीलंका टीम को अबतक कई मैच जितवाए हैं, वह भारत के खिलाफ जुलाई में घरेलू टेस्ट सीरीज के दौरान अंगूठे में चोट लगने के कारण बाहर हो गए थे। उन्हें हाल ही में मैच फिटनेस हासिल करने के लिए इमर्जिंग ट्रॉफी टूर्नामेंट में खेलने के लिए कहा गया है।

हालांकि, वह पिछले दिनों ही वह पूरी तरह से चोट से उबर चुके थे, लेकिन सिलेक्टरों ने उन्हें यह कहते हुए टीम में नहीं चुना था कि उन्होंने फिटनेस टेस्ट पास नहीं किया। श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड के अध्यक्ष थिलंगा सुमिपाला ने कहा, “हमने उन्हें मौजूदा इमर्जिंग ट्रॉफी टूर्नामेंट में कम से कम 2 मैच खेलने के लिए कहा है क्योंकि हम उम्मीद करते हैं कि हम उन्हें भारत के खिलाफ सीरीज में 16वें खिलाड़ी के रूप में भेजें।”

गुणारत्ने घरेलू टूर्नामेंट में आर्मी की ओर से खेलते हैं। वहीं इमर्जिंग टूर्नामेंट हर टीम को 4 सीनियर खिलाड़ी खिलाने की अनुमति देता है। श्रीलंका भारत के खिलाफ कोलकाता में 16 नवंबर से पहला टेस्ट खेलेगी। इसी बीच सुमितिपाला ने ये भी कहा है कि वे चयनकर्ताओं के निर्णय से सहमत नहीं है कि उन्होंने कुसल मेंडिस और कुसल सिल्वा को अंडर-15 में शामिल नहीं किया।”

सुमतिपाला ने आगे कहा, “हमारी इस बारे में एक घंटे की बातचीत हुई, हमारे मुताबिक इन दोनों क्रिकेटरों को दौरे में शामिल किया जाना चाहिए था। अंत में उनका निर्णय ही माना गया लेकिन हम दृढ़ता से महसूस करते हैं कि दोनों को टीम में शामिल किया जाना चाहिए, यहां तक कि कोच ने हमारे विचारों को समर्थन दिया।”

दोनों मेंडिस और सिल्वा के लिए पाकिस्तान के खिलाफ सीरीज कुछ खास नहीं रही थी। वैसे श्रीलंका के पूर्व क्रिकेटर महेला जयवर्धने ने भी इन दोनों खिलाड़ियों को टीम से बाहर किए जाने के लेकर चयनकर्ताओं पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने कहा कि यहां तक कि अगर मेंडिस टीम में नहीं भी खेल रहे हैं तो उन्हें टीम में होना चाहिए था।

टीम में नहीं मिली थी जगह तो आत्महत्या करने की सोच रहा था भारतीय टीम का ये सितारा
टीम में नहीं मिली थी जगह तो आत्महत्या करने की सोच रहा था भारतीय टीम का ये सितारा

मेंडिंस को टीम से बाहर किए जाने के फैसले के बारे में चयनकर्ता ग्रीम लेबरॉय ने कहा था कि वे सिर्फ खिलाड़ियों को बचा रहे थे। उन्होंने कहा, “हम वो परिस्थिति नहीं चाहते जहां वे दो और पारियां खेलें, दो और छोटे स्कोर पर आउट हों और फिर हमें उन्हें टीम से बाहर कर दें और उनका विश्वास आगे के लिए तोड़ दें। वह अभी ज्यादा उम्र के नहीं हुए हैं और हम चाहते हैं कि वह इस गेम के महान बल्लेबाजों में से एक बनें। हम चाहते हैं कि वह 10 साल और खेलें।”