Ashes series could see players with names and numbers on shirts

इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया की क्रिकेट टीमें 142 साल की परंपरा को तोड़ते हुए इस साल गर्मियों में होने वाली एशेज सीरीज के दौरान नाम और जर्सी नम्बर के साथ मैदान पर उतर सकती हैं।

ब्रिटेन के समाचार पत्र गार्जियन की रिपोर्ट के अनुसार इंग्लैंड एवं वेल्स क्रिकेट बोर्ड तथा क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने इस सम्बंध में एक प्रस्ताव पेश किया है और अब इस पर आईसीसी बोर्ड की मुहर लगनी बाकी है।

अगर ऐसा हुआ तो आईसीसी की नई विश्व चैम्पियनशिप के तहत एक अगस्त से खेली जाने वाली एशेज सीरीज के दौरान इस नए चलन के साथ पहली बार खेलती नजर आएंगी।

पिछली बार ऑस्ट्रेलिया में खेली गई एशेज सीरीज में इंग्लैंड को 4-0 से हार का सामना करना पड़ा था। टीम को पांच में से चार मुकाबले में हार मिली थी जबकि एक मैच इंग्लैंड ड्रॉ कराने में कामयाब रही थी।

टेस्ट मैचों की शुरुआत 1877 में मेलबर्न में हुई थी और तब से लेकर आज तक टेस्ट मैचों में टीमें सफेद या फिर क्रीम रंग की जर्सी में खेलती हैं। टी-20 और वनडे क्रिकेट की तरह खिलाड़ियों की जर्सी पर उनका नाम या फिर जर्सी नम्बर अंकित नहीं होता।