अपने करियर का आखिरी मैच खेलते हुए आशीष नेहरा (साभार- पीटीआई)
अपने करियर का आखिरी मैच खेलते हुए आशीष नेहरा (साभार- पीटीआई)

भारत और न्यूजीलैंड के बीच खेला गया पहला टी20 मैच बाएं हाथ के तेज गेंदबाज आशीष नेहरा का आखिरी मुकाबला था। आशीष नेहरा ने कोटला टी20 के बाद क्रिकेट से संन्यास ले लिया। अपने आखिरी मैच में आशीष नेहरा ने जबर्दस्त गेंदबाजी की। उन्होंने अपने आखिरी मैच में 4 ओवर में महज 29 रन खर्चे। हालांकि उन्हें कोई विकेट नहीं मिला लेकिन इसके बाद भी वो स्पेशल हैट्रिक लेने में कामयाब रहे। चौंकिए नहीं दरअसल आशीष नेहरा ने क्रिकेट के तीनों फॉर्मेट के आखिरी मैच में जीत के साथ करियर का अंत किया।

आशीष नेहरा ने अपना आखिरी टेस्ट साल 2004 में पाकिस्तान के खिलाफ खेला था, जिसमें टीम इंडिया ने पाकिस्तान से सीरीज जीती। ये टीम इंडिया की पाकिस्तान में पहली टेस्ट सीरीज जीत थी। इसके बाद आशीष नेहरा ने अपना आखिरी वनडे मैच भी पाकिस्तान के खिलाफ वर्ल्ड कप 2011 में खेला। मोहाली में खेले गए इस मुकाबले में भी टीम इंडिया को जीत हासिल हुई। अब अपने करियर के आखिरी टी20 मैच में भी आशीष नेहरा की जीत के साथ विदाई हुई, इस मुकाबले में टीम इंडिया ने न्यूजीलैंड को 53 रनों से हराया और ये कीवी टीम के खिलाफ टीम इंडिया की पहली टी20 जीत भी रही।

पहले टी20 में टीम इंडिया ने न्यूजीलैंड को 'धो' डाला, बन गए 4 बड़े रिकॉर्ड
पहले टी20 में टीम इंडिया ने न्यूजीलैंड को 'धो' डाला, बन गए 4 बड़े रिकॉर्ड

संन्यास के बाद आशीष नेहरा का बयान

क्रिकेट में अपने आखिरी मैच के बाद आशीष नेहरा ने कहा, “मुझे इन सबकी कमी महसूस होगी, लेकिन एक चीज जिसे अब निश्चित तौर पर मेरे शरीर को आराम मिलेगा। मैंने इससे पहले कहा था कि मैं और कुछ साल खेल सकता हूं लेकिन संन्यास लेने के लिए इससे बेहतर वक्त नहीं हो सकता था।” नेहरा ने कहा कि उन्होंने जब खेलना शुरू किया था तब से अब तक क्रिकेट बहुत बदल गया है। उन्होंने कहा कि 18 साल तक खेलना और यहां नीले कपड़ों में खड़ा रहना और अपना आखिरी मैच खेलने से ज्यादा वह और कुछ नहीं चाहते थे। (पीटीआई के इनपुट के साथ)