भारतीय टीम के दिग्गज बल्लेबाजों में से एक रहे युवराज सिंह (Yuvraj Singh) ने हालिया बयान में कहा था कि उन्हें सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) की कप्तानी में जैसा समर्थन मिला था, वैसा महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) या विराट कोहली (Virat Kohli) की कप्तानी में नहीं मिला। लेकिन उनके साथी खिलाड़ी और पूर्व तेज गेंदबाज आशीष नेहरा (Ashish Nehra) का कुछ और ही कहना है।

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले चुके नेहरा का कहना है कि युवराज ने अपने करियर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन धोनी की कप्तानी में ही किया है। स्टार स्पोर्ट्स से बातचीत में नेहरा ने कहा, “युवराज ने धोनी की कप्तानी में अच्छा खेला था, जहां तक मैंने युवराज का करियर देखा है जिस तरह से वो 2007 और 2008 में खेला वो शानदार था।”

नेहरा की ये बात काफी हद तक सही है। युवराज ने भले ही गांगुली की कप्तानी में डेब्यू किया हो लेकिन धोनी की अगुवाई में खेले 2007 टी20 विश्व कप से लेकर 2011 वनडे विश्व कप तक युवराज ने लाजवाब प्रदर्शन किया। ये स्टार ऑलराउंडर दोनों ही विश्व कप में मैन ऑफ द टूर्नामेंट रहा था।

उन्होंने कहा, “और 2011 में हमने देखा कि बीमारी के बावजूद भी वो धोनी की कप्तानी में दिलेरी से खेला। मुझे लगता है कि 16 साल तक क्रिकेट खेलने के बाद हर खिलाड़ी का अपना पसंदीदा कप्तान होता है और मेरे हिसाब से युवराज धोनी की कप्तानी में सबसे अच्छा खेला।”

धोनी की कप्तानी में खेले 104 वनडे मैचों में युवराड ने 36.20 की औसत और 88.21 की स्ट्राइक रेट से 3.077 रन बनाए। जिसमें 6 शतक और 21 अर्धशतक शामिल हैं। वहीं टी20 अंतरराष्ट्रीय में धोनी की अगुवाई में युवराज ने 55 मैच खेले, जिसमें उन्होंने 29.07 की औसत और 136.95 की से 1,334 रन बनाए।